भारत में हर साल प्रदूषण से 12 लाख लोगों की होती है मौत, दिल्ली है टॉप पर

by Wikileaks4India Posted on 160 views 0 comments
know-how-you-can-make-crore-with-your-pf-account-and-become-crorepati

भारत में हर साल प्रदूषण की वजह से 12 लाख लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ती है। ग्रीनपीस की रिपोर्ट के अनुसार दिल्ली को देश के 20 सबसे ज्यादा प्रदूषित शहरों में शीर्ष पर रखा है। हालांकि दिल्ली इकलौता प्रदूषित शहर नहीं है इसके अलावा देश में ऐसे कई शहर हैं जहां सांस लेना मुश्किल हो गया है। बुधवार को जारी ग्रीनपीस की यह रिपोर्ट भयावह स्थिति की ओर इशारा कर रही है। यह रिपोर्ट कई राज्यों के प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड से मिली जानकारियों के आधार पर बनाई गई है।

बता दें कि 24 राज्यों के 168 शहरों की स्थिति पर ग्रीनपीस इंडिया द्वारा बनाई गई इस रिपोर्ट का नाम ‘वायु प्रदूषण का फैलता जहर’ है। हालांकि देश की राजधानी दिल्ली में प्रदूषण के स्तर को कम करने के लिए लगातार कदम उठाए जा रहे हैं। लेकिन देखा जाए तो इन कदमों का कोई खास फर्क नहीं पड़ रहा है। रिपोर्ट में बताया गया है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन और दक्षिण भारत के कुछ शहरों को छोड़कर भारत के किसी भी शहर में केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के मानकों की सीमा का पालन नहीं किया है।

दिल्ली में प्रदूषण की स्थिति

देश के 20 सबसे ज्यादा प्रदूषित शहरों का 2015 में वायु प्रदूषण का स्तर पीएम 10 (2) 268 से 168 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर के बीच रहा। इसमें 268 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर के साथ दिल्ली पहले स्थान पर है।

ग्रीनपीस की रिपोर्ट का खुलासा

रिपोर्ट के मुताबिक भारत में हर साल वायु प्रदूषण से 12 लाख लोग दम तोड़ देते हैं। ग्रीनपीस ने 24 राज्यों व केंद्रशासित प्रदेशों के 168 शहरों की स्थिति जानी है।

उत्तर भारत के शहर ज्यादा प्रदूषित

सीपीसीबी से आरटीआई के द्वारा प्राप्त सूचनाओं में पाया गया कि ज्यादातर प्रदूषित शहर उत्तर भारत के हैं। यह राजस्थान से होकर गंगा के मैदानी इलाके से होते हुए पश्चिम बंगाल तक फैले हुए हैं।
अन्य शहरों में गाजियाबाद, इलाहाबाद, बरेली, कानपुर, फरीदाबाद, झरिया, रांची, कुसेंदा, बस्टाकोला है। पटना का प्रदूषण स्तर पीएम 10, 258 से 200 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर रहा।

प्रदूषण कम करने के ये हैं उपाय

प्रदूषण नियंत्रण के लिए सबसे पहले ऊर्जा और यातायात के क्षेत्र में कोयला, पेट्रोल, डीजल जैसे ईंधनों पर अपनी निर्भरता कम करनी होगी। कूड़े को जलाना, खेतों में खड़ी फसल में आग लगाना आदि ये सब बंद करना होगा।

Comments

comments