राहुल गांधी को एक साथ लगे 35 झटके

2019 लोकसभा चुनावों का आगाज होने से पहले हो रहे विधानसभा चुनावों ने हर पार्टी में असंतुष्ट कार्यकर्ताओं की रार को सतह पर लाकर खड़ा कर दिया है। इस समय हालात ये है कि लगातार हर पार्टी की तरफ से टिकट कटने से नाराज नेताओं और कार्यकर्ताओं के इस्तीफे और दल बदलने की खबरें भी लगातार आ रही है।

राजस्थान में कांग्रेस के अल्पसंख्यक विभाग के अध्यक्ष निजाम कुरैशी ने विधानसभा चुनाव में मुस्लिम उम्मीदवारों का टिकट कटने की वजह से नाराज होकर पार्टी से और अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। दुख वाली बात तो ये है कि अध्यक्ष निजाम कुरैशी का समर्थन करते हुए राज्य के 35 जिलों के जिलाध्यक्षों ने भी उनके साथ ही पार्टी से इस्तीफा दे दिया है। इसके बाद ऐसे कयास लगाए जा रहे है कि निजाम अपनी टीम सहित बीजेपी के द्वार पर दस्तक दे सकते है।

आपको बता दें कि पार्टी से इस्तीफा देने के कुछ समय बाद ही ऐसा देखने को मिला है कि कुरैशी के तेवर कांग्रेस के खिलाफ बगावती होते जा रहे है। उन्होंने स्थानीय मीडिया से बातचीत करते हुए कहा है कि कांग्रेस अब कार्यकर्ताओं की पार्टी नहीं रह गई है। टिकट पैसे लेकर बांटे गए हैं। टिकट वितरण में मुस्लिमों की अनदेखी की गई है। वहीं बीजेपी के बारे में सवाल पूछे जाने और भविष्य की संभावनाओं के बारे में बात करते हुए कुरैशी ने कहा कि मुस्लिमों को अब बीजेपी से परहेज नहीं है।

निजाम कुरैशी के इस्तीफे के बाद ही निजाम कुरैशी के इस्तीफे का समर्थन करते हुए राजस्थान के 35 जिलों में कांग्रेस की अल्पसंख्यक इकाई के जिलाध्यक्षों ने भी अपना इस्तीफा दे दिया है। निजाम कुरैशी ने टिकट के बारे में बात करते हुए कहा है कि मुस्लिम समाज की अनदेखी के लिए सिर्फ और सिर्फ कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट ही जिम्मेदार है। कुरैशी ने आरोप लगाया है कि टिकट बांटने से पहले मुस्लिम समुदाय के साथ कोई भी बातचीत नहीं की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.