बड़ा खुलासा: पाकिस्तान में अभिनंदन को किया गया था जमकर टॉर्चर, पाक सेना सोने नहीं देती थी और…

News

भारतीय वायुसेना ने 26 फरवरी को पीओके में घुसकर जैश-ए-मोहम्मद के ठिकानों पर हवाई हमला किया था। जिसमें मसूद अजहर के दो भाईयों, साला समेत करीब 300 आतंकी मारे गए थे और कई आतंकी कैंपों को भी नष्ट किया गया था। उसके ठीक अगले ही दिन यानि 27 फरवरी को पाकिस्तानी सेना ने एलओसी पार कर भारतीय सीमा में घुसने की कोशिश की लेकिन भारतीय वायुसेना ने जवाबी कार्रवाई करते हुए न सिर्फ पाकिस्तानी विमानों को खदेड़ा। बल्कि पाकिस्तानी सेना के एक विमान F-16 को मार गिराया। लेकिन इस जवाबी कार्रवाई में भारतीय सेना के विंग कमांडर अभिनंदन गलती से पाकिस्तानी सीमा में जा पहुंचे। जिसके बाद पाकिस्तानी सेना ने उन्हें हिरासत में ले लिया। लेकिन भारत सरकार की ओर से लगातार दबाव बनाता देख। पाक पीएम इमरान खान ने उन्हें रिहा करने का ऐलान किया। लेकिन अभिनंदन को रिहा करने से पहले पाकिस्तान ने उनका एक वीडियो शूट करवाया जिसमें कहा गया है कि पाक ने अभिनंदन के साथ अच्छा व्यवहार किया है। लेकिन इस बात की असलियत तो अभिनंदन के भारत लौटने के बाद पता चली है।

विंग कमांडर अभिनंदन लगभग 60 घंटे से ज्यादा पाकिस्तान की हिरासत में रहकर वतन वापस लौटे थे। पाकिस्तान ने उन्हें बुरी तरीके से टॉर्चर किया गया। ख़बर के मुताबिक, अभिनंदन को पाकिस्तान में 24 घंटे तक लगातार सोने नहीं दिया। ताकि वो टूट जाए और सारी बातें बता दें। उन्हें तेज आवाज में म्यूजिक सुनाया जाता था। लेकिन इसके बावजूद विंग कमांडर ने कोई बात नहीं बताई।

मेडिकल जांच में पाया गया कि पैराशूट से नीचे उतरने की वजह से अभिनंदन की चोट पीठ में गहरी चोट आई है। अभिनंदन से पाकिस्तान के कई अफसरों ने लगातार सवाल किए। लेकिन उन्होंने किसी को कुछ नहीं बताया। तो पाकिस्तान आर्मी ने आईएसआई एजेंट्स को बुलाया और अभिनंदन को टॉर्चर किया। उनके चेहरे पर तेज रोशनी डाली गई। उन्हें तेज आवाज में गाना गाने सुनाए गए। लेकिन अभिनंदन अपनी बात पर कायम थे उन्होंने किसी को कुछ नहीं बताया।

बता दें कि अभिनंदन जल्द ही लड़ाकू विमान उड़ाना चाहते हैं। रविवार को अभिनंदन से सेना के शीर्ष अधिकारियों ने मुलाकात की और उनका इलाज कर रहे डॉक्टरों ने बताया कि अभिनंदन जल्द से जल्द कॉकपिट में वापसी करना चाहते हैं। अभिनंदन दो दिन से सेना के रिसर्च अस्पताल में अपना इलाज करवा रहे हैं। कूलिंग डाउन प्रक्रिया के तहत उनके कई टेस्ट भी हुए। सुरक्षा एजेंसियों ने भी उनके साथ पूछताछ की। 17 अप्रैल कोअभिनंदन को पहला भगवान महावीर पुरस्कार दिया जाएगा। यह पुरस्कार अखिल भारतीय दिगंबर जैन महासमिति ने शुरू किया है, जिसमें अभिनंदन के 2.51 लाख रूपए और प्रशस्ति पत्र मिलेगा।

Leave a Reply