TRUE STORY: उस उम्र में इतना था बेताब कि अपनी ही बहन को मैंने बना लिया हवस का शिकार

आज हम आपके लिए अपने कन्फेशन वाले सेग्मेंट में एक ऐसे टीनेजर लड़के की कहानी लेकर आए हैं जिसने बेहद कम उम्र में कुछ ऐसा किया जिसे जानकर आपको हैरानी होगी। हालांकि अब वो टिनेजर नहीं रहा है। अब वो 23 साल का नौजवान लड़का है। तो चलिए शुरू करते है आज की कन्फेशन स्टोरी….

ये कहानी उस वक्त की है जब वो 10वीं क्लास में था। उम्र यहीं होगी कोई 14 या 15 साल। ये उम्र ऐसी होती है जब हमारे शरीर में कई तरह के बदलाव शुरू हो जाते है चाहे वो शरीरिक हो या मानसीक। इस उम्र में सेक्सुअल एक्टिवीटिस भी काफी बढ़ जाती है। ऐसे में टीनेजर्स सेक्स कॉन्टेंट देखना शुरू कर देते है। ऐसा ही किया उस टीनेज लड़के ने जिसके बाद उसका अपने मन और तन दोनो से ही कंट्रोल खोता चला गया।

उसने कुछ ऐसा किया जो किसी भी रिश्ते को तार-तार करने वाला था। उसने अपने इस कन्फेशन के दौरान अपनी गलतियों को भी माना। कन्फेश करते हुए उसने कहा

मैं यही कह सकता हूं कि, हो सकता है यह सब एक छोटे लड़के की नासमझ हरकतें हो सकती हैं। लेकिन मुझे इस बात को भी एक्सेप्ट करना होगा कि जब उस वक्त मेरी कजिन सिस्टर मेरे घर रहने के लिए आयी थी। मैं उसे कुछ उस नजरिये से देखने लगा था जो मुझे बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए था। मैं उसके बारे में कुछ इस तरह सोचने लगा था जो शायद मुझे नहीं सोचना चाहिए था।

उसे गलत तरह से छुने और देखने का कोई मौका नहीं छोड़ता था। अक्सर उसके सोते समय मैं उसके प्राइवेट पार्ट छुआ करता था। कुछ महीने तक ऐसा ही चलता रहा। मेरी इन इच्छाओं के आगे मैं उस रिश्ते की अहमियत को भी पूरी तरह भूल गया और हिम्मत कुछ इस कदर बढ़ती गई कि उसे नहाते टाइम और कपड़े बदलते हुए मैं देखने लगा।

कुछ दिनों तक ऐसा ही चलता रहा। एक दिन, मेरी कजिन ने मुझे ऐसा करते हुए देख लिया और वो डर गई। वो एकदम से चिल्लाई और भागती हुई मेरी मां के पास ये सबकुछ बताने के लिए चली गई। मां ने मुझे इन बातों के लिए बहुत डांटा और पीटा। मैंने उससे बहुत माफी मांगी लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। चीजें इस हद तक खराब हो गई थी कि कजिन ने सुसाइड करने तक की भी कोशिश की लेकिन उसे ऐसा करने से हम सभी ने रोक लिया।

इतना कुछ होने के बाद जाहिर है वहीं हुआ जिसकी उम्मीद थी। अपने परिवार के आगे मैं अपनी इज्जत, प्यार और भरोसा सब खो चुका था। मेरी ही बहन मुझे बहुत ही गंदे इंसान के तैर पर देखने लगी थी और मेरी मां उसे देखकर शर्म महसूस करती थी।

Tags:

  • Show Comments (0)

Your email address will not be published. Required fields are marked *

comment *

  • name *

  • email *

  • website *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

You May Also Like

ahohi ashtami vrat katha

संतान की लंबी उम्र के लिए जानें अहोई व्रत का महत्व और क्या हैं पूजा की विधि…

करवा चौथ के ठीक 4 दिन बाद कार्तिक कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को ...

britishers afraid of bhagat singh

कुछ तो बात थी वरना ऐसे ही थोड़ी अंग्रेज डरते थे भगत सिंह से!

28 सितंबर 1907 एक आम दिन नहीं था, बल्कि भारतीय इतिहास के लिए एक गौरवमयी दिन ...

nanotechnology-will-change-our-future

नैनो टेक्नोलॉजी भविष्य की उड़ान

-रविन्द्र कुमार हार्ट सर्जरी, मोबाइल फोन में क्रांति और फिर अंतरिक्ष की उड़ान। ये ...

poet anwar jalalpuri death

नहीं रहे गीता का उर्दू शायरी में अनुवाद करने वाले मशहूर शायर अनवर जलालपुरी

साहित्य की मशहूर हस्ती शायर अनवर जलालपुरी का लखनऊ में निधन हो गया है। ...