एक ऐसी खूबसूरत जगह, जहां घर से भागे हुए प्रेमी जोड़ों को दी जाती है पनाह

by Renu Arya Posted on 54 views 0 comments
sangchul-mahadev-temple-kullu

हिमाचल प्रदेश में जितना ही अपनी खूबसूरती के लिए मशहूर है उतना ही यहां भारतीय परंपराओ और मानयताओं को माना जाता है। लोग ज्यादातर हिमाचल यहां की सुंदरता को निहारने आते है। लेकिन आज हम आपको हिमाचल की सुंदरता के अलावा भी वहां की एक ऐसी खासियत के बारे में आपको बता रहे है जिसे शायद ही कोई जानता होगा। हिमाचल प्रदेश में कुल्लू के शांघड़ गांव के देवता शंगचूल महादेव के बारे में जहां घर भागे हुए प्रेमी जोड़ों को पनाह दी जाती है।




शांघड़ गांव कुल्लू की सेंज वैली में है।

पांडव के जमाने के शांघड़ गांव में कई इतिहास से जुड़ी धरोहरें है। इन्ही में से एक हैं यहां का शंगचुल महादेव मंदिर।




sangchul-mahadev-temple-kullu

डलहौजी के खज्जियार की तरह ग्रास फील्ड

शंगचूल महादेव के यहां किसी भी जाति या धर्म के प्रेमी जोड़ें अगर एक बार आ जायें फिर जब तक वह इस मंदिर की सीमा में हैं उनका कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता।




sangchul-mahadev-temple-kullu

शंगचुल देवता का मंदिर

यहां तक की उनके परिवार वाले भी उन्हें कुछ नहीं कह सकते। शंगचुल महादेव मंदिर करीब 100 बीघा के मैदान तक फैला हुआ है। जब इस सीमा में कोई प्रेमी जोड़ा पहुंचता है तब से ही उसे देवता की शरण में आया हुआ मान लिया जाता है।

sangchul-mahadev-temple-kullu

जले हुए मंदिर को दोबारा बनाया गया

अपनी विरासत के नियमों का पालन कर रहे इस गांव में पुलिस के आने पर भी रोक है। साथ ही यहां शराब, सिगरेट और चमड़े जैसी चीजें नहीं ले जायी जा सकती, और न कोई हथियार लेकर यहां आ सकता है। यहां किसी तरह की लड़ाई या झगड़ा करना या फिर ऊंची आवाज में बात करना भी मना है। यहां देवता का ही फैसला माना जाता है।

शंगचुल देवता की प्रतिमा

यहां घर से भागकर आए प्रेमी जोड़ों के मामले जब तक निपट नहीं जाते तब तक मंदिर के पंडित उन लोगों की खातिरदारी करते हैं

sangchul-mahadev-temple-kullu

शंगचुल देवता का एरिया

गांव में ऐसा कहा जाता है कि अज्ञातवास के समय पांडव यहां कुछ समय के लिए रूके थे। कौरव उनका पीछा करते हुए यहां आए थे। तब शंगचूल महादेव ने कौरवों को रोका और कहा कि यह मेरा क्षेत्र है और जो भी मेरी शरण में आएगा उसका कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता। इस समय महादेव के डर से कौरव वापस लौट गए थे।

sangchul-mahadev-temple-kullu

पूरे 100 बीघा में फैला है

तब से लेकर आज तक जब कभी समाज का ठुकराया हुआ कोई शख्स या प्रेमी जोड़ा यहां पनाह लेने के लिए आता है, तो महादेव ही उसकी देखरेख करते हैं।

Comments

comments