सुनिए गुलजार की आवाज में आज की नज्म

todays-nazm-in-gulzaar

गुलजार का असली नाम संपूर्ण सिंह कालरा है। वह एक प्रसिद्ध गीतकार है। इसके अतिरिक्त वह एक कवि, पटकथा लेखक, फिल्म निर्देशक तथा नाटककार हैं। उनकी रचनाए ज्यादातर हिंदी उर्दू तथा पंजाबी में हैं, लेकिन ब्रज भाषा, खड़ी बोली, मारवाड़ी और हरियाणवी में भी इन्होंने रचनाये की।

गुलजार को 2002 में सहित्य अकादमी पुरस्कार और 2008 में भारत सरकार के द्वारा दिया जाने वाला तीसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म भूषण से भी सम्मानित किया जा चुका है। 2009 में डैनी बॉयल निर्देशित फिल्म स्लम्डॉग में उनके द्वारा लिखे गीत जय हो के लिये उन्हे सर्वश्रेष्ठ गीत का अॉस्कर पुरस्कार मिल चुका है। इसी गीत के लिये उन्हें ग्रैमी पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है।

गुलजार का जन्म झेलम जिला पंजाब के दीना गांव में, जो अब पाकिस्तान में है। गुलजार अपने पिता की दूसरी पत्नी की इकलौती संतान हैं। उनकी मां उन्हें बचपन में ही छोङ कर चल बसीं। मां के आंचल की छांव और पिता का दुलार भी नहीं मिला। वह नौ भाई-बहन में चौथे नंबर पर थे। बंट्वारे के बाद उनका परिवार आकर बस गया, वहीं गुलजार साहब मुंबई चले गये। वर्ली के एक गेरेज में वे बतौर मेकेनिक काम करने लगे और खाली समय में कवितायें लिखने लगे। फिल्म इंडस्ट्री में उन्होंने बिमल राय, हृषिकेश मुखर्जी और हेमंत कुमार के सहायक के तौर पर काम शुरू किया। बिमल राय की फिल्म बंदनी के लिए गुलजार ने अपना पहला गीत लिखा। गुलजार त्रिवेणी छ्न्द के सृजक हैं।

  • Show Comments (0)

Your email address will not be published. Required fields are marked *

comment *

  • name *

  • email *

  • website *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

You May Also Like

today nazm

सुनिए राहत इंदौरी की आवाज में आज की नज्म

आपको बता दें कि राहत इंदौरी का जन्म इंदौर में 1 जनवरी 1950 में कपड़ा मिल ...

today nazm

सुनिए मोहम्मद रफी की आवाज में आज की नज्म

मोहम्मद रफी जितनी बड़ी शख्सियत है उतना ही बड़ा उनका काम भी है। लोगों ...

in hong kong people lives in cages

यहां पिंजरों में जानवर नहीं बल्कि रहते है इंसान, जीते है जानवरों से भी बुरी जिंदगी!

हॉन्ग कॉन्ग एक ऐसा देश है जो अपने लाइफस्टाइल और खूबसूरती के लिए पूरी ...

how-you-use-your-sixth-sence

अब आप जान सकते है सामने वाले के बिना बताये ही उसके मन में चल रही बातों के बारे में

सिक्स्थ सेंस को आसान शब्दों में छटी इंद्रिय कहा जाता हैं। वैसे तो इंसान की ...

ravan myth in this vilage

इस गांव में आज भी रावण के खौफ में जीते हैं लोग, जब जब मना दशहरा हुई किसी की मौत!

ग्रेटर नोएडा से लगभग 10 किलोमीटर दूर बसा है रावण का गांव बिसरख। यहां ...