संसद भवन में पूर्व पीएम वाजपेयी की तस्वीर का हुआ अनावरण, विपक्षी नेताओं ने भी तारीफ में पढ़े कसीदे

News

संसद भवन में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के आदमकद चित्र का अनावरण किया। इस दौरान उप राष्ट्रपति वेंकैया नायडू, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और विभिन्न दलों के अन्य नेता मौजूद रहे। इस मौके पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि अटल अपने सार्वजनिक जीवन की पाठशाला थे। वे संवेदनशील थे। वाजपेयी ने सत्ता में बने रहने या बचाने के लिए कभी सिद्धांतों से समझौता नहीं किया। उनका सपना था कि 21वीं सदी भारत की हो।

बता दें कि प्रधानमंत्री मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि अटल जी के जीवन पर बहुत सी बातें की जा सकती है। घंटों तक कहा जा सकता है फिर भी पूरा नहीं हो सकता। ऐसे व्यक्तित्व बहुत कम होते हैं। व्यक्तिगत जीवन के हित के लिए कभी अपना रास्ता न बदलना, ये अपने आप में सार्वजनिक जीवन में हम जैसे कई कार्यकर्ताओं के लिए बहुत कुछ सीखने जैसा है। तो वहीं, कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी जी को याद किया जाएगा क्योंकि उनके शब्दों में विपक्ष के लिए आलोचना तो थी लेकिन उनके दिल में विपक्ष के लिए कभी गुस्सा नहीं था।

कौन थे अटल बिहारी वाजपेयी…
बीजेपी के संस्थापकों में शामिल वाजपेयी पहली बार 1996 में प्रधानमंत्री बने और उनकी सरकार सिर्फ 13 दिनों तक ही रह पाई। 1998 में वह दूसरी बार प्रधानमंत्री बने, तब उनकी सरकार 13 महीने तक चली। 1999 में वाजपेयी तीसरी बार प्रधानमंत्री बने और 5 वर्षों का कार्यकाल पूरा किया। 5 साल का कार्यकाल पूरा करने वाले वह पहले गैरकांग्रेसी प्रधानमंत्री थे और इसके बाद वाजपेयी ने राजनीति से सन्यास ले लिया। बता दें कि लंबी बीमारी के चलते वाजपेयी दिल्ली के एम्स अस्पताल में भर्ती करवाया गया था और 16 अगस्त 2018 को शाम 5 बजे वाजपेयी का निधन हो गया था।

 

Leave a Reply