जया प्रदा पर अमर्यादित टिप्पणी कर फंसे आजम खान, सुषमा स्वराज और अमर सिंह ने सुनाई खरी-खोटी

Election, News

चुनावी माहौल के बीच नेताओं के विवादित बयान जारी हैं। हाल ही में रामपुर लोकसभा सीट से सपा उम्मीदवार आजम खान ने एक ऐसा बयान दिया है जो कि बहुत ही शर्मनाक है। जी हां, उन्होंने कहा था कि ‘जिसको हम उंगली पकड़कर रामपुर लाए, आपने 10 साल जिनसे प्रतिनिधित्व कराया…उसकी असलियत समझने में आपको 17 साल लगे, मैं 17 दिन में पहचान गया कि इनका अंडरवियर खाकी रंग का है।’

आजम खान के इस बयान को जय प्रदा से जोड़ा जा रहा है और चारों तरफ से नेता उनपर निशाना साध रहे हैं। हालांकि, आजम खान ने अपने बयान पर सफाई देते हुए कहा कि उन्होंने किसी का नाम नहीं लिया। साथ ही उन्होंने कहा कि अगर वह दोषी साबित हुए तो वह लोकसभा का चुनाव नहीं लड़ेंगे।

वहीं, बीजेपी उम्मीदवार जय प्रदा ने आजम खान के इस बयान पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि यह मेरे लिए नया नहीं है। आपको याद होगा कि मैं 2009 में उनके पार्टी की उम्मीदवार थी, जब उन्होंने मेरे खिलाफ टिप्पणी की तो किसी ने भी मेरा समर्थन नहीं किया। मैं तो एक महिला हूं और जो उन्होंने कहा वह मैं दोहरा भी नहीं सकती। मुझे नहीं पता कि मैंने उनके साथ क्या किया है, जो वे ऐसी बातें कह रहे हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि आजम साहब क्या मैं मर जाऊं तक आप खुश रहेंगे।

आपको बता दें कि आजम खां के बयान पर टिप्पणी करते हुए विदेश मंत्री सुषमा ने ट्विटर पर लिखा, ‘मुलायम भाई, आप पितामह हैं समाजवादी पार्टी के। आपके सामने रामपुर में द्रौपदी का चीरहरण हो रहा है। आप भीष्म की तरह मौन साधने की गलती मत करिए।’ उन्होंने ट्वीट में समाजवादी पार्टी के मुखिया और यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, समाजवादी पार्टी की नेता और फिल्म अभिनेत्री जया भादुरी के साथ-साथ डिंपल यादव को भी टैग किया है।

वहीं, राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने इस टिप्पणी को ‘बेहद अमर्यादित’ करार दिया। इसके बाद महिला आयोग की तरफ से आजम खान को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। इसके अलावा रेखा शर्मा ने चुनाव आयोग से भी गुजारिश की है कि वह आजम खान को चुनाव लड़ने से प्रतिबंधित करे।

इसी मामले को लेकर अमर सिंह ने भी आजम खान पर निशाना साधते हुए उनकी तुलना राक्षस से की है। साथ ही, आजम खान की गिरफ्तारी की भी मांग की है।

Leave a Reply