फीफा का आयोजन भारत में होने से क्या हुए फायदे!

benefits of fifa world up hosted in india

पहली बार भारत में फीफा का कोई इतने बड़े स्तर का टूर्नामेंट आयोजित हुआ है। अंडर-17 विश्व कप में 24 टीमों ने 6 स्थल और 22 दिनों तक खिताब के लिए जंग लड़ी। लेकिन 28 अक्टूबर को हुए इस टूर्नामेंट के फाइनल में इंग्लैंड की जीत के साथ ही इस टूर्नामेंट का समापन भी हो गया है। हालांकि मेजबान भारत का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा लेकिन सफलता और असफलता का पैमाना ये नहीं हो सकता है। लेकिन इस टूर्नामेंट से भारत को कुछ फायदे और नुकसान हुए हैं।

 

भारतीय टीम की पहली बार भागीदारी

फीफा के किसी भी इवेंट में भारत ने अंडर 17 विश्वकप के द्वारा पहली बार अपनी जगह बनाई है। आपको बता दें कि फीफा के नियमों के अनुसार मेजबान देश को बिना क्वालिफाइंग राउंड खेले ही सीधा प्लेऑफ में एंट्री मिलती है। भारत ने पहली बार खेले गए इस टूर्नामेंट में अपने ग्रुप मुकाबलों में दूसरे मैच में सबसे अधिक जोश से प्रदर्शन किया था। इस मैच में जैक्सन के हेडर से किए गए गोल को आज भी दर्शक याद करते हैं। यहां तक की आगे भी जब भी इस विश्वकप की बात की जाएगी तो उसमें भारत की बात उठते ही सबसे पहली चीज जो दिमाग में आएगी वो यही गोल होगा। गौरतलब है कि इसके बाद भारतीय टीम की तरफ से बचे हुए मैचों में कोई भी गोल नहीं हुआ था। सभी तीनों मैचों में हार के बाद भारत को टूर्नामेंट से बाहर होना पड़ा था लेकिन जोश और उत्साह इन खिलाड़ियों का देखते ही बनता था।

 

दर्शकों का झुकाव

आम तौर पर देखा जाता है कि भारत में क्रिकेट के हर मैच में मैदान के बाहर और अंदर दर्शकों का हुजूम देखने को मिलता है लेकिन ऐसे में फुटबॉल और वो भी अंडर 17 के इवेंट में दर्शकों की भीड़ की कल्पना नहीं की गई थी। खासकर नॉर्थ इंडिया में ऐसी उम्मीद किसी ने नहीं की थी। भारत के सभी मैच दिल्ली के जवाहर लाल नेहरु स्टेडियम पर हुए। इस दौरान सभी दर्शकों ने ध्वज, कैप, चेहरे पर रंगोली आदि बनाकर हजारों की संख्या में स्टेडियम में उपस्थिति दर्ज कराते हुए फुटबॉल को भी किसी क्रिकेट मैच से कम नहीं माना। स्टेडियम पर बनी कुर्सियों पर हाथों की थाप के साथ ‘इंडिया-इंडिया’ के नारे और टीम की हौसला अफजाई के लिए शोर से लगा ही नहीं की नॉर्थ इंडिया में अंडर 17 फुटबॉल विश्वकप का मैच हो रहा है। इतना ही नहीं, प्रेस बॉक्स में हर अच्छे मूव पर पत्रकारों द्वारा तालियों की गड़गड़ाहट से इस खेल का आनंद देखते ही बनता था। इस लिहाज से कहा जा सकता है कि इस विश्वकप से फुटबॉल को नहीं समझने वाले लोगों का भी झुकाव इस खेल की तरफ बढ़ा है। और आगे यह खेल भारत में और अधिक लोकप्रिय होने की संभावनाएं ज्यादा बढ़ गई है।

 

मैच देखने वाले लोगों की संख्या

टूर्नामेंट से भारतीय टीम के बाहर होने के बाद भी दर्शकों की संख्या ने इस विश्वकप में कई रिकॉर्ड तोड़ दिए है। पूरे टूर्नामेंट के दौरान 12 लाख 39 हजार 100 दर्शकों ने अलग-अलग मैदानों में जाकर खेल देखा है। जो भारत की फुटबॉल में तेजी से बढ़ती लोकप्रियता का एक बहुत सकारात्मक उदहारण है। इससे पहले साल 1985 में पड़ौसी देश चीन में 12 लाख 30 हजार 976 दर्शक आए थे। 2011 में मेक्सिको में हुए फीफा अंडर 17 विश्वकप में 10 लाख 2 हजार 314 दर्शक जुटे थे।

 

खिलाड़ियों को नई ऊर्जा मिली है

तीसरे मैच में घाना से हारने के बाद भारतीय कोच ने मीडिया से बातचीत करते हुए साफ शब्दों में कहा कि अच्छी तकनीक वाली टीमों के साथ एक बड़े टूर्नामेंट में खेलने और एक घरेलू लीग में खेलने में बहुत अंतर होता है। उन्होंने इस बात पर खास जोर दिया कि बड़े टूर्नामेंट में सीखने का एक अलग ही माहौल होता है और निश्चित रूप से भारतीय टीम को इससे बहुत फायदा हुआ है और आगे इसके परिणाम देखने को मिलेंगे। भारत के कप्तान अमरजीत सिंह ने भी इस बात को माना और कहा कि इस टूर्नामेंट के बाद से भारत में भी 5 साल की उम्र से फुटबॉल का अभ्यास कराना शुरू कर दिया जाएगा क्योंकि विदेशों में ऐसा ही होता है तभी उनके खिलाड़ी मैदान पर इतनी मजबूती से खेलते हैं।

 

लोगों के नजरिये में आएगा बदलाव

आम तौर पर भारत में क्रिकेट के अलावा बहुत कम खेलों को ही महत्व मिलता है। फुटबॉल के साथ भी पहले ऐसा ही था, लेकिन फीफा अंडर 17 विश्वकप में मेजबान टीम की उपस्थिति से लोगों ने इसे दिल से जोड़कर देखा और लाइन में लगकर टिकट लिए इससे कहा जा सकता है कि आगे इस खेल को जानने के लिए लोगों की जिज्ञासा और ज्यादा बढ़ेगी और स्टेडियम की वो चकाचौंध उन्हें सालों तक याद रहते हुए खेल से जोड़कर रखेगी। भारत के लिए फीफा अंडर 17 विश्वकप किसी सौगात से कम नहीं था और इससे आने वाले दिनों में सकारात्मक चीजें ही देखने को मिलेगी।

  • Show Comments (0)

Your email address will not be published. Required fields are marked *

comment *

  • name *

  • email *

  • website *

You May Also Like

MS Dhoni takes hummer from Ranchi airport; drives New Zealand players crazyMS Dhoni takes hummer from Ranchi airport; drives New Zealand players crazy

देखिए… कैसे माही ने कीवियों के सामने दौड़ाई ‘हमर’

टीम इंडिया के कैप्टन कूल महेंद्र सिंह धोनी का बाइक और कार प्रेम शायद ...

ipl-2017-full-schedule-indian-premier-league-2017

5 अप्रैल से होगा IPL10 के महाकुंभ का आगाज, ये होगा मैचों का शेड्यूल!

भारतीय क्रिकेट को विश्व में एक नई पहचान दिलाने वाले आइपीएल के 10वें संस्करण ...

9 विकेट से जीत हासिल कर भारत पहुंचा फाइनल में, जानें मैच से जुड़ी अहम बातें

आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी 2017 के दूसरे सेमीफाइनल जो कि एजबेस्टन के बर्मिंघम में भारत ...

This Female Cricketer is Like Sehwag - Wikileask4india news Report

सहवाग का फीमेल वर्जन है ये महिला क्रिकेटर!!!

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व ओपनर वीरेंद्र सहवाग अपनी हाजिर जवाबी के लिए जाने ...

kkr won by 6 wickets and in second match GL won by 6 wickets-Wikileaks4india Report

IPL10: पहले मैच में ‘सुनील’ के तूफान में उड़ा RCB, दूसरे मैच में ‘स्मिथ’ ने किया ‘अमला’ का शतक बेकार

रविवार को IPL10 का पहला मुकाबला कोलकाता नाइट राइडर्स और रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के ...

Argentinian model poses for naked mirror selfies with tennis player

इस टेनिस स्टार की HOT PICS ने सोशल मीडिया में कुछ इस तरह से मचाया हंगामा!

अर्जेंटीना के टेनिस स्टार जुआन मोनाको और उनकी गर्लफ्रेंड केरोलिना पेम्पिटा की कुछ हॉट ...