PM नरेंद्र मोदी के नाम दर्ज हुआ नया रिकॉर्ड, सभी नेताओं को इस मामले में दी मात

News

लोकसभा चुनाव से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नाम एक नए रिकॉर्ड में दर्ज हुआ है। पीएम मोदी ने अपने ही रिकॉर्ड को तोड़ते हुए संसद में सबसे लंबा भाषण देने का रिकॉर्ड दर्ज किया। बता दें कि गुरुवार को संसद में राष्ट्रपति के धन्यवाद प्रस्ताव पर पीएम मोदी ने करीब 1 घंटे 40 मिनट का भाषण देकर रिकॉर्ड बनाया। इस भाषण को अभी तक का सबसे लंबा भाषण माना जा रहा है। गौरतलब है कि पीएम मोदी ने पिछले साल राष्ट्रपति के धन्यवाद प्रस्ताव पर 1 घंटे 31 मिनट का भाषण दिया था। इस साल के भाषण ने पिछले रिकॉर्ड को तोड़ते हुए पीएम मोदी के नाम एक नया कीर्तिमान रच दिया है।

आपको बता दें कि सर्वश्रेष्ठ वक्ता माने जाने वाले पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी के नाम भी ऐसा ही एक रिकॉर्ड दर्ज हुआ था। जब अटल बिहारी वाजपेयी जी ने साल 1996 को डेढ़ घंटे का भाषण दिया था। वाजपेयी जी का ये भाषण 13 दिन की सरकार के बाद विश्वास मत की चर्चा पर जवाब देने के लिए था। वायपेयी जी का यह भाषण आज भी सबको याद है। जब स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी में 90 मिनट का अपना भाषाण समाप्त करके राष्ट्रपति के पास जाकर उन्हें अपना त्यागपत्र सौंप दिया था।

 

ज्ञात है कि ऐसे ही एक लंबे भाषण के लिए विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का नाम भी आता है जब उन्होंने साल 2017 में पाकिस्तान, चीन और अमेरिका के भारत से चल रहे तत्कालीन संबंधों पर करीब 50 मिनट लंबा भाषण दिया था। 1 घंटे से ज्यादा का भाषण देने वालों में कांग्रेस के नेता गुलाम नबी आजाद का भी नाम दर्ज है। साल 2018 में गुलाम नबी आजाद ने राष्ट्रपति के धन्यवाद प्रस्ताव पर राज्यसभा में 1 घंटे से ज्यादा का लंबा भाषण दिया था। वहीं अगर सबसे लंबे बजट भाषण की बात करें तो पूर्व वित्त मंत्री जसवंत सिंह ने साल 2003 में बजट पेश करने के दौरान 2 घंटे 13 मिनट का भाषण दिया था। वहीं, अरुण जेटली ने भी साल 2014 में 2 घंटे 10 मिनट का बजट भाषण पेश किया था।

Leave a Reply