बीजेपी अधिवेशन में जमकर गरजे पीएम मोदी, कांग्रेस की उखाड़ डाली बखिया

Politics

लोकसभा चुनाव से पहले भारतीय जनता पार्टी का दो दिवसीय अधिवेशन काफी बड़े स्तर पर किया गया, जहां पीएम मोदी एक बड़े चेहरे के रुप में नजर आए साथ ही पार्टी की कमान अमित शाह ने संभाली। वहीं अब इस अधिवेशन के समापन सत्र में शनिवार को पीएम मोदी ने कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। अपनी सरकार और देश की सियासत को लेकर कई बाते कहीं, मंच से पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि, ”भाजपा सरकार पर भ्रष्टाचार का एक भी आरोप नहीं लगा। हमसे पहले की सरकार के कार्यकाल ने देश को बहुत अंधेरे में धकेल दिया था। अगर मैं कहूं कि भारत ने 2004 से 2014 के महत्वपूर्ण 10 साल घोटालों और भ्रष्टाचारों के आरोपों के गंवा दिए, तो गलत नहीं होगा।”

प्रधानमंत्री ने आगे कहा, ”स्वतंत्रता के बाद अगर सरदार पटेल देश के पहले प्रधानमंत्री बनते तो देश की तस्वीर कुछ और होती। आज मैं यह कहना चाहता हूं कि 2000 के चुनावों के बाद अगर अटलजी प्रधानमंत्री बने रहते तो आज भारत कहीं और होता।”

कार्यकारिणी की बैठक में अटल को पीएम मोदी ने किया याद

मोदी ने अपने संबोधन के दौरान ही अटल जी को याद करते हुए कहा कि, ये राष्ट्रीय कार्यकारिणी की पहली बैठक है, जो अटलजी के बिना हुई। आज उन्हें भाजपा कार्यकर्ताओं के समर्पण से संतोष हो रहा होगा। बीते वर्ष भाजपा के जिन कार्यकर्ताओं को विरोधियों की राजनीतिक हिंसा की वजह से जान गंवानी पड़ी, उनके परिवारों के प्रति भी मैं संवेदना व्यक्त करता हूं। केंद्र में भाजपा की सरकार है और देश के 16 राज्यों में या तो हम सरकार चला रहे हैं या फिर सरकार में शामिल हैं। आपकी इच्छाशक्ति जब कर्मशक्ति में बदली तभी भाजपा यह ऊंचाई प्राप्त कर पाई है।

भाजपा के लिए कई लिहाज से अहम है यह अधिवेशन

आपको बता दें कि, लोकसभा चुनाव से बिल्कुल पहने किया जाने वाला यह भाजपा का यह अधिवेशन कई लिहाज से महत्वपूर्ण है। हाल ही में तीन राज्यों के चुनाव में सत्ता गंवाने के बाद पार्टी के लिए यह अधिवेशन काफी मायने रखता है। एक दिन पहले ही पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह ने मोदी सरकार की उपलब्धियां गिनाईं। उन्होंने 2019 के लोकसभा चुनाव को वैचारिक युद्ध बताया था।

Leave a Reply