जज की बेटी का वकील से था अफेयर, पता चलने पर पिता ने किया…

बिहार के खगड़िया जिले में सेशन कोर्ट के जज द्वारा अपनी ही बेटी को बंधन बनाने का मामला सामने आया है। लीगल न्यूज वेबसाइट के मुताबिक जज की बेटी उसी कोर्ट के एक वकील के साथ रिलेशनशिप में है। इसी बात से गुस्साए जज सुभाष चंद्र चौरसिया ने 24 साल की लॉ ग्रेजुएट अपनी बेटी यशवनी के साथ पहले मारपीट की उसके बाद उसे बंधक बना दिया।

इस मामले के सामने आने के बाद पटना हाई कोर्ट ने इस पर संज्ञान लिया और सोमवार को सुनवाई करने का फैसला किया। मामले की सुनवाई चीफ जस्टिस राजेंद्र मेनन और राजीव रंजन प्रसाद की डिविजन बेंच करेगी। आपको बता दें बार ऐंड बेंच वेबसाइट की रिपोर्ट के मुताबिक, लड़की पटना की चाणक्य नैशनल लॉ यूनिवर्सिटी से एक लॉ ग्रैजुएट है, जिसका सुप्रीम कोर्ट के वकील सिद्धार्थ बंसल के साथ प्रेम संबंध होने की वजह से लड़की के पिता सुभाष चंद्र चौरसिया और परिवार वालों ने मारपीट की थी।

रिपोर्ट में बताया गया है कि, वह पहली बार 2012 में साकेत कोर्ट कॉम्प्लैक्स में इंटर्नशिप के दौरान सिद्धार्थ से मिली थी। इसके बाद यशस्विनी अपनी मां के साथ 6 मई को होने वाले दिल्ली जुडिशल सर्विस एक्जाम के लिए अपनी मां के साथ गई थी और अपने होटल के बाहर सिद्धार्थ से मिली थी।

minor girl molestation

अफेयर का पता चलने पर घर में हुई पिटाई

जब लड़की की मां को दोनों के अफेयर के बारे में पता चला तो बिना टेस्ट दिलाए ही यशस्विनी को लेकर खगड़िया वापस आ गई। रिपोर्ट के मुताबिक, खगड़िया पहुंचने पर लड़की के माता पिता ने यशस्विनी के साथ बुरी तरह मार-पीट की। यही नहीं उसके मोबाइल से सिद्धार्थ को कॉल कर उसकी पिटाई और रोने की आवाज तक सुना दी।

hospital are also not safe for girls

रिपोर्ट के मुताबिक, सिद्धार्थ अपने वरिष्ठ साथियों के साथ पिछले महीने खगड़िया आए थे और यशस्विनी के पिता से भी मुलाकात की थी। इस दौरान लड़की के पिता ने सिद्धार्थ से कहा सिविल सर्वेंट या जज बनने पर ही वह यशस्विनी से शादी करने लायक हो पाएंगे।

Father sold daqughter for 7 lakh rupees

डीजीपी से मिलकर युवती को बचाने की सिफारिश

इसके बाद सिद्धार्थ डीजीपी केएस द्विवेदी से मिले ताकि यशस्विनी को बचाया जा सके। डीजीपी ने इस मामले की पुष्टि करते हुए बताया कि पिछले महीने बेगूसराय में रिव्यू मीटिंग के दौरान वह एक दिल्ली के वकील से मिले थे। उन्होंने कहा, ‘खगड़िया एसपी मीनू कुमारी से मैंने मामले को देखने के लिए कहा है।’

CM Akhilesh Yadav and actor Akshay Kumar cannot helped the girl

वहीं खगड़िया की महिला पुलिस स्टेशन एसएचओ किरण कुमारी ने बताया है कि सिद्धार्थ ने लड़की को बचाने के लिए एक लिखित शिकायत दी है। एसएचओ ने कहा कि वह जज के आवास पर लड़की से मिली थीं। उसने मुझे बताया था कि वह खुश है।’

  • Show Comments (0)

Your email address will not be published. Required fields are marked *

comment *

  • name *

  • email *

  • website *

You May Also Like

opposition may try to impeach cji

विपक्ष करेगा CJI के खिलाफ महाभियोग चलाने की कोशिश

ऐसा लग रहा है कि सुप्रीम कोर्ट का विवाद अभी लंबा चलेेगा। चार जजों ...

article 35-a hearing after diwali in supreme court

अनुछेद 35-A पर सुप्रीम कोर्ट ने याचिका स्वीकार की, दिवाली के बाद होगी सुनवाई

सुप्रीम कोर्ट ने जम्मू-कश्मीर के स्थाई निवासियों को विशेष अधिकार देने वाले संविधान के ...

तीन तलाक के बाद अब बारी है बहुविवाह और निकाह हलाला के खात्मे की

देश में बहुविवाह और निकाह हलाला मामले के खिलाफ की गई याचिका पर आज ...

know rights of equality

कहीं भी महसूस करें असमानता तो पढ़ें इस खबर को पता चल जाएगा क्या कहता हैं हमारा कानून!

हमारे भारत में सबसे बड़ी परेशानी समानता की है। आजकल महिलाएं भी पुरूषों से ...

1984 sikh riots will be investigated again

1984 सिख विरोधी दंगों में दोबारा होगी 186 मामलों पर जांच, SC ने बनाई नई SIT

साल 1984 में हुए सिख विरोधी दंगों के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने एक ...