मेरी मदद करने के लिए उसने मेरे साथ बलात्कार किया…

मैं 11 साल की थी जब मेरे साथ ये घटना हुई। एक लड़की के लिए ये आसान नहीं होता कि वो अपने इस दर्द को जाहिर कर सके। जब भी मैं उस वाक्या को याद करती हूं तो मेरे होंथ थरथराने लग जाते हैं, घुटने कमजोर पड़ जाते हैं। उस वक्त मुझे पीरियड्स आने शुरु ही हुए थे।

मुझे सही से पीरियड्स नहीं होते थे, बिना समय के होने लगते थे। जिसे लेकर मेरे मां-बाप काफी परेशान थे और मुझे डॉक्टर के पास ले जाने की बात करते थे। ये शनिवार शाम की बात है और कुछ कॉपी खरीदने के लिए नौकरानी के साथ बाहर गई थी। जब हम दुकान से बाहर आए, तो एक आदमी ने मुझे बुलाया और नौकरानी को थोड़ी दूरी पर खड़े होने के लिए कहा।

उसने अपने एक हाथ में रुमाल लिया, उसे खोल दिया और मेरे कानों में फुसफुसाया “आपके पिता ने मुझे अभी बुलाया और कहा कि आपको अपनी डेट नहीं आई है। मैं डॉक्टर हूं और मैं आपको अपने क्लिनिक में ले जाऊंगा” और मुझे नहीं पता कि क्या मुझे सम्मोहित किया गया था, लेकिन मैंने उसका पीछा करना शुरू कर दिया था। लड़कियों के लिए पीरियड्स की डेट में अनियमितता होना बहुत आम बात है, इस तरह उसने शायद अनुमान लगाया।

लेकिन मैं अभी तक नहीं समझ सकी की उसे ये कैसे मालूम था, शायद उसने तुक्का मारा था। मैं विरोध नहीं कर सकती थी या एक शब्द नहीं कह सकती थी लेकिन उसके साथ चल रही थी। अपनी नौकरानी का मेरे पीछे रोना नहीं सुन सकी, गाड़ियों के हॉर्न नहीं सुन पा रही थी। वह मुझे एक संकीर्ण लेन में ले गया, और अचानक मुझे तंग रखा।

उसने मुझे अपने कपड़े उतारने के लिए कहा। मैं धीरे-धीरे अपनी ताकत हासिल कर रही था लेकिन विरोध करने के लिए बहुत कमजोर थी। मैंने उसे दूर धक्का दिया और उसने मुझे पहले से भी ज्यादा कसकर पकड़ लिया क्योंकि उसने मेरी शर्ट खींच ली। उसने मुझे दीवार के खिलाफ दबाया, और मेरे निजी हिस्सों को छुआ। मुझे उससे दर्द हुआ। फिर उसने मुझसे मेरी स्कर्ट हटाने के लिए कहा। मैंने विरोध किया और मुझे छोड़ने के लिए कहा। मैंने उससे भीख मांगी लेकिन उसने नहीं सुनी।

उसने मेरी स्कर्ट खोल दी और मुझे पकड़ लिया। वो मेरे शरीर के अंदर घुसने लगा था और जब तक मैं खून में बह रही थी। मैंने विनती की लेकिन वो नहीं रुका। और फिर, अचानक उसने मुझे छोड़ दिया और कहा कि “वापस जाओ और इस बारे में किसी को मत कहना। मैं अपनी ताकत वापस लाई और दौड़ना शुरू कर दिया। मैं अभी भी कमजोर थी और फिर आदमी पर वापस देखना नहीं चाहता थी। मैं तब तक चल रही थी जब तक मुझे मेन रोड नहीं मिली और मेरे चाचा को खोजने की कोशिश की।

rape statement jcp

मुझे अहसास नहीं हुआ कि मैं एक घंटे से अधिक वक्त से दूर थी। इस बीच मेरी नौकरानी ने मेरे माता-पिता से कह दिया था कि मैं लापता थी और अब वो सड़क पर थे, परेशान थे, मुझे खोज रहे थे। मैंने हिम्मत जुटाई और उनसे कहा कि कुछ भी नहीं हुआ था। मैं समझने के लिए बहुत छोटी था कि “यौन अपराध” क्या है। मैं ये महसूस करने के लिए बहुत छोटी था कि चिल्लाने से मदद मिली हो और मैं एफआईआर दर्ज करा सकती थी। मुझे पता था कि, जो हुआ है बिल्कुल गलत था और अगर मेरे माता-पिता को पता चलता तो उन्हें इस बात का झटका लगता। तो मैं किसी भी तरह मजबूत बनी रही। मैंने सालों तक खुद को चुप रखा और आखिरकार 6 साल बाद अपने माता-पिता से कहा कि जब मैं इसे और सहन नहीं कर सकी।

मैं इस बारे में अब खुल कर कह सकती हूं कि ये हादसा मुझे और नहीं डराता। लेकिन मुझे इस बात को समझने में सालों लग गए कि चुक रहने से कुछ नहीं होता है। चुप रहना किसी मुद्दे का हल नहीं होता है। बल्कि चुप रहने से इस तरह के अपराधों को और अपराधियों को बढ़ावा मिलता है।

rape statement jcp

शुरुआत में ये बताना मुश्किल लगता है लेकिन अब नहीं क्योंकि अब मैं इस बात से वाकिफ हूं कि छेड़खानी या रेप में कुछ भी ऐसा नहीं होता जिससे आपको शर्म आए। हजारों लोग इस दर्द से रूबरू होते हैं क्योंकि हमारा समाज ये बताता है। अब वक्त आ गया है कि हमें अपनी आवाज बुलंद करनी होगी और इसका विरोध करना होगा।

नोट: ये हमारे एक पाठक की कहानी है जिसे उसने नाम न बताने की शर्त पर हमसे साझा किया है।

  • Show Comments (0)

Your email address will not be published. Required fields are marked *

comment *

  • name *

  • email *

  • website *

You May Also Like

True Story : मुझे उससे दूर होने का दुख नहीं था बल्कि उस प्यार से दूर होने का था जो वो मुझे किया करता था !

मैं एक रेप्युटेटेड यूनिवर्सिटी से इंजीनियरिंग कर रही थी और मैं बहुत खुश थी क्योकि वहां ...

आनंद अहूजा को पति चुनने की ये थी सोनम कपूर की वजह, ‘National Boyfriend Day’ पर खोला राज

‘नेशनल बॉयफ्रेंड डे’ (National Boyfriend Day) के मौके पर बॉलीवुड एक्ट्रेस सोनम कपूर ने ...