अब पत्नी के साथ जबरन शारीरिक सम्बन्ध बनाना नहीं होगा बलात्कार

कभी-कभी कुछ बातों में हम अपनी सहमति देना जरूरी समझते हैं और जब बात हो अपने मन की या अपने सम्मान की तो जाहिर सी बात है कि उस मामले में हमारी सहमति होना जरूरी भी है। असहमति के बाद भी शारीरिक सम्बन्ध बनाने के मामले में गुजरात उच्च न्यायलय की ओर से जो सुनवाई हुई है। उस सुनवाई ने सबको हैरान करके रख दिया है। गुजरात उच्च न्यायलय ने इस मामले में ये बोला है कि अगर पत्नी अपने पति के साथ शारीरिक सम्बन्ध बनाने के लिए मंजूर नहीं है और फिर भी पति अपनी पत्नी के साथ शारीरिक सम्बन्ध बनाता है तो उसे किसी भी तरह की जबरदस्ती नहीं मानी जाएगी और न ही इसे दुष्कर्म का नाम दिया जायेगा।

दरअसल मामला ये था कि महिला डॉक्टर ने अपने पति के खिलाफ शारीरिक शोषण और दुष्कर्म का आरोप लगया। पीड़िता का पति खुद पेशे से डॉक्टर है ।इसी मामले पर गुजरात सुप्रीम कोर्ट ने ये हैरान कर देने वाली सुनवाई की। वहीं दूसरी ओर इस पूरे मामले को लेकर न्यायमूर्ति जेबी पारडीवाला का कहना है कि विवाह के बाद अगर पति अपनी पत्नी की इच्छा के विरुद्ध जाकर उससे शारीरिक सम्बन्ध बनाता है तो ये कही से भी शारीरिक दुष्कर्म नहीं कहा जा सकता है। इस पूरे मामले को लेकर न्यायमूर्ति जेबी पारडीवाला का कहना है कि पत्नी से उसकी इच्छा के विरुद्ध शारीरिक संबंध बनाना दुष्कर्म की श्रेणी में नहीं आता।


पत्नी के कहने से पति पर दुष्कर्म के लिए भारतीय दंड संहिता की धरा 376 के अंदर मामला दर्ज नहीं किया जा सकता है। वैवाहिक दुष्कर्म धरा 376 के अंतर्गत नहीं आता है जिसके चलते पति को अपनी पत्नी से शारीरिक सम्बन्ध बनाने की इजाजत है। न्यायलय ने ये भी कहा कि एक पति को अपनी पत्नी के साथ शारीरिक सम्बन्ध बनाने की इजाजत तो है लेकिन पत्नी पति की सम्पति नहीं है और ये उसकी इच्छा के बिना नहीं होना चाहिए।

  • Show Comments (0)

Your email address will not be published. Required fields are marked *

comment *

  • name *

  • email *

  • website *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

You May Also Like

case of divorce are revealed in Aligarh: The victim appealed justice to PM Modi

तीन तलाक पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश की उड़ी धज्जियां, व्हाट्सएप पर दिया तलाक

सुप्रीमकोर्ट ने तीन तलाक को लेकर बड़े गंभीर नियम बनाए लेकिन उस नियम की ...

24 new judgjes appointed in allahabad and kolkata high court

इलाहाबाद और कलकत्ता हाईकोर्ट में 24 नए जजों की नियुक्ति

इलाहाबाद और कलकत्ता हाई कोर्ट में 24 अतिरिक्त न्यायाधीशों की नियुक्ति की गई है। इस कदम ...

bill on triple talaq will be presented tomorrow in parliament

संसद में जारी है विपक्ष का हमला, कल पेश होगा तीन तलाक का बिल

संसद के शीतकालीन सत्र में विपक्ष की तरफ से सरकार पर हमला लगातार जारी ...

TOP 5 IPC Codes Which Can Play Big Role in Judicial System - Wikileaks4india News Report

IPC की 5 ऐसी धाराएं जो अब इस्तेमाल में नहीं है, लेकिन अहम भुमिका निभा सकती है

155 से भी ज्यादा साल पुरानी भारतीय दण्ड संहिता (IPC) की कुछ ऐसी धाराऐं ...

kolkata high court justice cs karnan released from jail

छह महीने जेल की सजा काटने के बाद, आज होेंगे रिहा पूर्व जस्टिस कर्णन

कोलकाता हाईकोर्ट के जज रह चुके न्यायमुर्ति सीएस कर्णन अपनी छह महीने की सजा ...

know-all-important-rights-for-child

बच्चों का पालन-पोषण करने से पहले, जानें बच्चों के लिए बने अधिकारों के बारे में!

आज के समय में सबसे ज्यादा जरूरी विषय है बच्चों की सुरक्षा। स्कूल हो ...