Press "Enter" to skip to content

अब चलेंगी पॉड टैक्सी, 800 करोड़ रुपए के ‘मेट्रिनो प्रॉजेक्ट’ का रास्ता हुआ साफ: नितिन गडकरी

Spread the love

सरकार की महत्वकांक्षी ‘पॉड टैक्सी’ परियोजना तेजी से आगे बढऩे को तैयार है। सरकार ने इसे एनएचएआई के तहत क्रियान्वित करने का फैसला किया है और चार अंतरराष्ट्रीय कंपनियां शुरूआती बोली में इसके लिये सही पायी गयी हैं। परियोजना को ‘पर्सनल रैपिड ट्रांजिट’ या मेट्रिनो के नाम से जाना जाता है और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर यह अपनी तरह की अलग परियोजना है।

 

सडक परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि ‘हम एनएचएआई के तहत 800 करोड़ रुपए की पायलट परियोजना को क्रियान्वित करने जा रहें है। मेरी शहरी विकास मंत्री एम वेंकैया नायडू से मुलाकात हुई है और अंतत हमने फैसला किया कि हम इसे एनएचएआई कानून के तहत क्रियान्वित कर सकते हैं। पूर्व में इस बात पर गौर किया गया कि इसे ट्रामवे कानून के तहत क्रियान्वित किया जाए या फिर एनएचएआई कानून के अंतर्गत।’

 

मंत्री ने बताया कि चार शुरूआती निविदाएं मिली हैं और सरकार जल्दी ही मेट्रिनो परियोजना के लिए वित्तीय बोली आमंत्रित करेगी। इसके तहत यात्री राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में बिना चालक के रस्सी के सहारे चलने वाले ‘पॉड’ के जरिये यात्रा कर सकेंगे।

 

pod taxi wikileaks4India

पायलट परियोजना के तहत राष्ट्रीय राजमार्ग आठ एम्यिंस माल के नजदीक दिल्ली-हरियाणा राजमार्ग पर इसे चलाया जाएगा। इसे राजीव चौक, इफको और सोहना रोड होते हुए बादशाहपुर तक ले जाया जाएगा। इस पर करीब 800 करोड़ रपये का खर्च आएगा।

 

एक अधिकारी ने कहा कि चार वैश्विक कंपनियां एक लंदन से, दूसरा संयुक्त अरब अमीरात की, एक अमेरिका की और एक पौलैंड की कंपनी को शुरूआती तकनीकी बोली में पात्र पायी गयी हैं। अधिकारी ने कहा कि 12.3 किलोमीटर लंबे मार्ग पर 13 स्टेशन होंगे और एक ‘पॉड’ में पांच लोग यात्रा कर सकेंगे। कुल 4,000 करोड़ रुपए की यह सार्वजनिक परिवहन परियोजना है जिसके तहत शुरु में 1,100 पॉड की योजना है। पहले चरण में दिल्ली में धौला कुआं से हरियाणा के मानेसर को जोड़ा जाएगा।          

 

More from BusinessMore posts in Business »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.