Press "Enter" to skip to content

कनाडाई पीएम ट्रूडो के लिए आयोजित डिनर में शामिल हुआ यह आतंकवादी, मच गया बवाल

Spread the love

कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो का एक हफ्ते का भारतीय दौरा किसी न किसी वजह से लगातार खबरों में आ ही रहा है। अब खबर आयी है कि ट्रूडो की पत्नी सोफी ट्रूडो की एक तस्वीर जिसमें वह बैन किए जा चुके इंटरनैशनल सिख यूथ फेडरेशन में एक्टिव रहे दोषी खालिस्तानी आतंकवादी जसपाल अटवाल के साथ नजर आ रही हैं। कनाडाई पीएम की पत्नी सोफी की यह तस्वीर मुंबई में 20 फरवरी के एक इवेंट की है। आपतो बता दें कि जसपाल अटवाल को कनाडा के पीएम के लिए आयोजित किए गए डिनर में भी आमंत्रित किया गया था।

न्यूज रिपोर्ट के मुताबिक, प्रधानमंत्री कार्यालय ने इस बारे में पूछे जाने पर बताया कि, इनवाइट को रद्द कर दिया गया है। इस इन्वाइट को भारत में कनाडा के हाई कमिश्नर द्वारा दिया गया था। सीबीसी न्यूज को एक ई-मेल द्वारा पीएमओ प्रवक्ता ने कहा, ‘मैं इस बात की पुष्टि कर सकता हूं कि हाई कमिशन अटवाल के निमंत्रण को रद्द करने की प्रक्रिया में है।’

मंगलवार को मुंबई में आयोजित किए गए एक इवेंट में ट्रूडो का परिवार और बॉलिवुड की कई हस्तियों समेत कनाडा के कैबिनेट मंत्री अमरजीत सोही भी शामिल हुए थे। इसी इवेंट के दौरान ही अटवाल और सोफी ट्रूडो की तस्वीरें ली गई है। अमरजीत सोही भी जसपाल अटवाल के साथ तस्वीरों में नजर आ रहे हैं। इवेंट में ली गई इन तस्वीरों के सार्वजनिक होने के बाद भारत में इसके विरोध में प्रतिक्रिया हो सकती है।

canadian pm trudeuo's dinner event and terrorist

डो का बयान

ट्रूडो के इस भारतीय दौरे पर अटवाल का ऐसे इवेंट में शामिल होना उन्ही के लिए मुसीबत बन सकता है। आपको बता दें कि खालिस्तानी समर्थक देने वाले ट्रूडो ने हाल ही में बयान दिया था, ‘हम एक भारत व संयुक्त भारत का समर्थन करते हैं और इस मामले में कनाडा का रुख नहीं बदला है।’ उन्होंने कहा था, ‘हमने यह स्वीकार किया है कि विविधता हमारी ताकत है। अलग-अलग मत वाले विचार कनाडा की सफलता का महत्वपूर्ण हिस्सा हैं और हम हिंसा को नकारते हैं।’

कौन है यह विवादित मुद्दा बनाने वाला जसपाल अटवाल

आपको बता दें कि, अटवाल पर 1986 में वैंकूवर आइलैंड पर भारतीय कैबिनेट मंत्री मलकीयत सिंह सिंधू की हत्या करने की कोशिश के आरोप हैं। उस समय अटवाल कनाडा, अमेरिका, ब्रिटेन और भारत में एक आतंकवादी समूह के तौर पर बैन किया गया इंटरनेशनल सिख यूथ फेडरेशन का सदस्य था। इसके साथ ही अटवाल को 1985 में एक ऑटोमोबाइल फ्रॉड केस में भी दोषी पाया गया था।

खालिस्तान, कनाडा की वोट बैंक की राजनीति का मोहरा

canadian pm trudeuo's dinner event and terrorist

अभी तक इस बात की कोई साफतौर पर जानकारी नहीं मिल पाई है कि अटवाल का नाम मुंबई और दिल्ली के इवेंट की गेस्ट लिस्ट में कैसे आया। इंटरनेशनल सिख यूथ फेडरेशन को कनाडा सरकार ने 1980 में एक आतंकवादी संगठन घोषित कर दिया था। अटवाल उन चार लोगों में से एक है जिन्होंने 1986 में वैंकूवर में सिंधू की कार पर गोलियां चलाई थी। अटवाल ने सिंधू पर हुए हमले में अपनी भूमिका होने की बात की भी पुष्टि की थी।

More from InternationalMore posts in International »
More from International PoliticsMore posts in International Politics »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.