पाकिस्तानी पीएम की भारत को धमकी कहा ‘भारत के ‘कोल्ड स्टार्ट डॉक्ट्रीन से निपटने के लिए हमने छोटे रेंज वाले एटमी हथियार बना लिए हैं।’

by Renu Arya Posted on 76 views 0 comments
new prime minister of pakistan shahid khakan abbasi threat to india for nuclear weapons

भारत पाकिस्तान के गर्म रिश्ते में कुछ सुलह की बात होना तो दूर आय दिन कोई न कोई बयानबाजी आना लाजमी सा हो गया है। दोनों देश चाहे कोशिश कर लें बातचीत से मसले को सुलझाने की लेकिन ये एक चुनौती से कम नहीं है। आपको बता दें पाकिस्तान ने एक बार फिर भारत को परमाणु हथियारों की धमकी दी है। पाकिस्तान के नए प्रधानमंत्री बने शाहिद अब्बासी ने कहा कि भारत के ‘कोल्ड स्टार्ट डॉक्ट्रीन से निपटने के लिए हमने छोटे रेंज वाले एटमी हथियार बना लिए हैं।

 क्या कहा अब्बासी ने

फॉरेन रिलेशंस काउंसिल में अमेरिकी थिंक टैंक के प्रोग्राम में एक सवाल पूछे जाने पर अब्बासी ने जवाब देते हुए कहा ‘हमारी परमाणु संपदा पूरी तरह से सुरक्षित है। हमारा पूरा कंट्रोल है। हमने ऐसा सिस्टम अपनाया है कि यह सुरक्षित रहे। न्यूक्लियर कमांड ऑथरिटी (NCA) ने इसे सेफ करने का पूरा प्रॉसेस पूरा किया है।’ बता दें कि NCA ही पाकिस्तान में परमाणु हथियारों की सुरक्षा को लेकर जिम्मेदार है।

आगे अब्बासी ने कहा कि ‘जहां तक एटमी हथियारों की बात है, भारत के ‘कोल्ड स्टार्ट डॉक्ट्रीन से निपटने के लिए हमने छोटे रेंज वाले एटमी हथियार बना लिए हैं। ये हथियार उसी नीति के तहत काम करते हैं जिस तरह हथियारों की नीति काम करती है।’

 पाकिस्तान ‘जिम्मेदार देश’

अब्बासी ने कहा कि ‘पाकिस्तान एक जिम्मेदार देश है, हमने पिछले 15 सालों में आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई लड़कर ये साबित किया है। हमारे पास न्यूक्लियर ताकत है और हमें पता है कि उसे कैसे संभालना चाहिए।’

अफगानिस्तान नीति को लेकर जाहिर की आपत्ति

पाकिस्तान ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के युद्धग्रस्त अफगानिस्तान में भारत के लिए ज्यादा बड़ी भूमिका की वकालत करने को लेकर अमेरिका के सामने ही आपत्ति दिखाई है। विदेश सचिव तहमीना जांजुआ ने कहा कि प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी ने संयुक्त राष्ट्र महासभा के सत्र से इतर अमेरिकी उपराष्ट्रपति माइक पेंस से मुलाकात के दौरान ट्रंप द्वारा उनकी नई अफगान नीति में भारत के लिए ज्यादा बड़ी भूमिका की वकालत करने को लेकर चिंता जताई।

Comments


COMMENTS

comments