Press "Enter" to skip to content

आज भारत बंद पर देशभर में सुरक्षा के कड़े इंतजाम, इंटरनेट सेवाओं पर भी लगाई गई रोक

Spread the love

दलितों को लेकर गर्मायी राजनीति के बीच आज शिक्षा, नौकरियों में जाति आधारित आरक्षण के खिलाफ भारत बंद का एलान किया गया है। जिसे लेकर हर जगह सुरक्षा चाक चौबंद करने और हिंसा को रोकने के लिए केंद्र की ओर से राज्य सरकारों को खास आदेश जारी किया गया है। गृह मंत्रालय ने भी साफ कर दिया है कि किसी भी तरह की हिंसा के लिए जिलाधिकारी की पुलिस अधीक्षक व्यक्तिगत रुप से जिम्मेदार होगी।

एक हफ्ते पहले ही किए गए प्रदर्शन के दौरान काफी बड़े स्तर पर हिंसा की गई थी। जहां दजर्न से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी। इस बार भारत बंद के एलान पर राज्यों को सुरक्षा-व्यवस्था कड़ी रखने और जरूरत पड़ने पर निषेधाज्ञा जारी करने सहित किसी अप्रिय घटना से बचने के लिए सही इंतजाम करने के लिए कहा गया है।

गृह मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि, किसी तरह के जान-माल के नुकसान को रोकने के लिए राज्यों को सभी संवेदनशील इलाकों में गश्त बढ़ाने के निर्देश दिए गए हैं। भोपाल के पुलिस उपमहानिरीक्षक (डीआईजी) धमेन्द्र चौधरी ने कहा कि, मंगलवार के बंद को देखते हुए पुलिस सोशल मीडिया के संदेशों पर खास ध्यान दे रही है। उन्होंने कहा, ‘‘सोशल मीडिया पर नफरत भरे संदेशों को फैलाने वाले लोगों की खिलाफ भादवि की धारा 188 के तहत कार्रवाई की जायेगी।’’

भोपाल के संभाग आयुक्त अजातशत्रु का कहना है कि मंगलवार को भोपाल में एहतियात के तौर पर धारा 144 लागू की गयी है। लेकिन स्कूल, सरकारी कार्यालय और बैंक सामान्य दिनों की तरह काम करते रहेंगे। बंद को देखते हुए सुरक्षा व्यवस्था सख्त रहेगी। हालांकि यहां भी कोई संगठन बंद के समर्थन में आगे नहीं आया है।

इस बीच ही केरल में 30 दलित संगठनों ने बंद का आह्वान किए जाने के बाद सोमवार को राज्य में सामान्य जनजीवन काफी प्रभावित हुआ है। यह बंद अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति अधिनियम को कमजोर करने के खिलाफ किया गया है। ट्रेड यूनियनों द्वारा देशभर में बंद के एलान के चलते दो अप्रैल को भी राज्य में ऐसे ही बंद देखा गया था।

More from NationalMore posts in National »
More from National PoliticsMore posts in National Politics »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.