Press "Enter" to skip to content

निर्भया गैंगरेप केस पर सुप्रीम कोर्ट का सुप्रीम फरमान

Spread the love

निर्भया गैंगरेप मामला वो मामला था जिसने पूरे देश में सनसनी फैला दी थी। लाखों की तादात में यूवा सड़कों पर भागता फिर रहा था और सबके मन में यहीं अरमान था कि देश की बहादूर बेटी निर्भया को इंसाफ मिले और उसके सभी गुनेहगारों को फांसी की सजा दी जाए। अगर इस मामले के दोषियों की बात करे तो इनमें से एक नाबालिग दोषी 3 साल की सजा के बाद रिहा कर दिया गया है और एक आरोपी ने जेल में ही खुदखुशी कर दी थी। बाकी बचे हुए चार आरोपियों को अदालन ने फांसी की  जा सुना दी थी।

nirbhaya gang rape supreme court next hearing

जिसके बाद आरोपियों ने सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दायर की थी और उसी पुनर्वीचार याचिका पर आज सुप्रीम कोर्ट ने अपना ऐलिहासिक फैसला सुनाया है। सुप्रीम कोर्ट ने अपना अहम निर्णद देते हुए तीनों दोषियों की याचिका खारिज कर दी है और अब कोर्ट का कहना है कि अब उनकी फांसी की सजा को किसी भी हाल में उम्र कैद की सजा में नहीं बदला जा सकता। ये आज की सबसे बड़ी खबर इसलिए भी है क्योंकि निर्भया की मां कई समय से ठोकरे खा रही थी सिर्फ अपनी बच्ची को इंसाफ दिलाने के लिए और आज निर्भया को सुप्रीम कोर्ट ने इंसाफ दे दिया है।

कोर्ट का फैसला था कि सभी आरोपियों की फांसी की सदा को बदला नहीं जाएगा और फांसी की सजा को बरकरार रखेगा। आपको बता दें कि 4 मई का ही वो दिन था जिस दिन निर्भया गैंगरेप मामले में सुप्रीम कोर्ट ने सभी दोषियों द्वारा दायर की गई पुनर्विचार याचिका पर अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। इस मामले की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट की तीन जजों की बेंच ने किया है।

सुप्रीम कोर्ट में चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा, जस्टिस आर भानुमति और जस्टिस अशोक भूषण की बेंच ने दोषियों विनय, पवन और मुकेश की पुनर्विचार याचिका पर आज ये अहम फैसला सुनाया है। मामले की सुनवाई के बाद इतना घिनोना अपनराध करने के बावजूद भी दोषियों की तरफ से कहा गया कि ये मामला फांसी की सजा का नहीं है और वो गरीब पृष्ठभूमि से आए हुए हैं, वो आदतन अपराधी नहीं हैं इसलिए उन्हें एक बार सुधरने का मौका दिया जाना चाहिए।

More from NationalMore posts in National »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.