Press "Enter" to skip to content

कांग्रेस के बयानों को मिल रहा है आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा का समर्थन, पढ़िए पूरी खबर

Spread the love

जम्मू-कश्मीर में सेना द्वारा की गई कार्रवाई और राज्य की आजादी पर कांग्रेस पार्टी के दो वरिष्ठ नेताओं के बयान से देश में काफी बवाल मच गया है। जिससे पार्टी के लिए मुश्किल खड़ी हो गई है। सत्ता पर बैठी बीजेपी ने जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम  गुलाम नबी आजाद के सैन्य ऑपरेशन में आतंकवादी से ज्यादा आम लोगों के मारे जाने वाले बयान की कड़ी आलोचना करते हुए कांग्रेस पर निशाना साधा है।

बीजेपी के वरिष्ठ नेता रविशंकर प्रसाद ने आजाद के इस बयान की आलोचना कर इसे गैर जिम्मेदाराना, शर्मनाक और सेना का मनोबल तोड़ने वाला बताया और कहा कि पूर्व सीएम की इस टिप्पणी से सबसे ज्यादा खुश पाकिस्तान होगा।

रवि शंकर प्रसाद ने शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए कहा,

‘आजाद की यह टिप्पणी दुर्भाग्यपूर्ण है। वह क्या कहना चाहते हैं? वह क्या संकेत दे रहे हैं? कांग्रेस पार्टी देश तोड़ने वालों के साथ खड़ी हो गई है। कांग्रेस का ऐसा नेता यह बयान दे रहा है जो जम्मू-कश्मीर का सीएम रह चुका है, जिसने कश्मीर में आतंकवाद के दंश को झेला है। सीमा पर सेना और सुरक्षाबलों के जवान ही शहीद होते हैं।’

आगे प्रसाद ने कहा कि,

आजाद के बयान का लश्कर-ए-तैयबा जैसे संगठन भी समर्थन कर रहे हैं। लश्कर का प्रवक्ता अब्दुल्ला गजनवी ने बयान जारी कर कहा, ‘हमारा विचार भी आजाद के विचार की तरह ही है।’ सेना चीफ बिपिन रावत और रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण के शहीद औरंगजेब के घर जाने को आजाद ड्रामा बताते हैं। इससे खराब बात और क्या हो सकती है।

सोज के बयान पर राहुल-सोनिया से मांगा गया जवाब

बीजेपी नेता ने पूर्व केंद्रीय मंत्री सैफुद्दीन सोज द्वारा किए गए कश्मीर की आजादी वाले बयान पर भी हमला बोला, उन्होंने कहा कि,

कांग्रेस चीफ राहुल और सोनिया इस बयान पर जवाब दें। आपको बता दें कि सोज ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि कश्मीर के लोगों की पहली प्राथमिकता आजादी पाना है। सोज ने कहा कि वर्तमान स्थिति में कश्मीर की आजादी इससे जुड़े देशों के कारण संभव नहीं है, लेकिन यह जरूर है कि कश्मीर के लोग पाकिस्तान के साथ इसका विलय नहीं कराना चाहते हैं।

opposition in parliament

‘देशविरोधियों के साथ खड़ी हुई कांग्रेस’

रविशंकर ने आगे कहा कि, कांग्रेस देशविरोधियों के साथ खड़ी हो गई है। राहुल जेएनयू में जाकर राष्ट्रविरोधी ताकतों के साथ खड़े हो जाते हैं। सर्जिकल स्ट्राइक पर खून की दलाली का बयान देते हैं। कांग्रेस का आज का नेतृत्व केवल नरेंद्र मोदी विरोध और बीजेपी का विरोध कर रही है।’

जानिए, क्या कहा था गुलाम नबी आजाद ने अपने बयान में

कुछ दिन पहले ही आजाद ने कहा था कि, केंद्र सरकार की दमनकारी नीति का सबसे ज्यादा नुकसान आम जनता को भुगतना पड़ता है। एक आतंकी को मारने के लिए 13 नागरिकों को मार दिया जाता है। हाल के आंकड़ों पर गौर करें तो सेना की कार्रवाई नागरिकों के खिलाफ ज्यादा और आंतकियों के खिलाफ कम हुई है। घाटी में हालात बिगड़ने का मुख्य कारण यह है कि मोदी सरकार बातचीत करने की अपेक्षा कार्रवाई करने में ज्यादा यकीन रखती है। ऐसा लगता है कि वे हमेशा हथियार इस्तेमाल करना चाहते हैं।’

More from International PoliticsMore posts in International Politics »
More from NationalMore posts in National »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.