Press "Enter" to skip to content

“मुस्लिम चाहते हैं कि अयोध्या में राममंदिर बने”, इस शख्स के बयान से हैरानी में हैं मुस्लिम समाज

विश्व हिंदू परिषद के अध्यक्ष विष्णु सदाशिव राव कोकजे ने भरोसा जताया है कि सुप्रीम कोर्ट का निर्णय राम मंदिर के पक्ष में ही आएगा। उन्होंने कहा कि हमें भरोसा है कि अदालत का निर्णय राम मंदिर के निर्माण के लिए ही आएगा।

विष्णु सदाशिव राव कोकजे का कहना है कि आज मंदिर निर्माण की दिशा में जो कुछ प्रगति है वो विश्व हिंदू परिषद के आंदोलन की वजह से है। उन्होंने कोर्ट का फैसला 6 महीने के अंदर आने का भरोसा जताया है। आज वो राम जन्मभूमि न्यास कार्यशाला में पत्रकारों से मुखातिब भी हुए थे।

विष्णु सदाशिव ने रामलला और हनुमानगढ़ी जाकर पूजा अर्चना भी की। और दोपहर को उनकी  मुलाकात जगद्गुरु पुरुषोत्तमाचार्य से भी हुई। उन्होंने राम जन्मभूमि न्यास कार्यशाला का निरीक्षण किया और वहां पर निर्मित शिला और तराशे गये पत्थरों को भी देखा। इस दौरान बाकी संगठन के लोग और वीएचपी मीडिया प्रभारी शरद शर्मा भी मौजूद थे।

रामलला और हनुमानगढ़ी का दर्शन

इससे पहले विश्व हिंदू परिषद के कार्याध्यक्ष विष्णु सदाशिव कोकजे ने अयोध्या के हनुमानगढ़ी में दर्शन और पूजन किया। उन्होंने हनुमानगढ़ी को बहुत दर्शनीय और शक्ति का प्रतीक भी बताया। इसके बाद उन्होंने रामलला के भी दर्शन किए। पूर्व राज्यपाल विष्णु सदाशिव कोकजे पदाधिकारियों के साथ रामलला के दर्शन करने अयोध्या में हैं। इस मौके पर उनके साथ उपाध्यक्ष चंपत राय समेत दर्जनों कार्यकर्ताओं ने भी दर्शन किया और वो कल देर रात अयोध्या पहुंचे।

अध्यक्ष बनने के बाद कोकजे पहली बार अयोध्या पहुंचे। अयोध्या दौरे पर वो साधूसंतों से भी मिलेंगे और राम मंदिर निर्माण को लेकर कई बैठकें भी करेंगे। कोकजे आज ही यहां पर कार्यसेवकपुरम में राम मंदिर निर्माण की तैयारियों का भी जायजा लेंगे। राम मंदिर को लेकर उन्होंने कहा कि ये सपना जल्द पूरा होगा।

 

अयोध्या जाने से पहले लखनऊ में मीडिया से बातचीत करते हुए उन्होंने दावा किया कि अयोध्या के मुस्लिम भी चाहते हैं कि वहां पर राम मंदिर ही बने। उन्होंने कहा कि वो रामलला के दर्शन करने आए हैं। उनकी इच्छा थी कि प्रवास शुरू करने से पहले वो रामलला के दर्शन करें। उन्होंने कहा कि अयोध्या के बाद वो देशभर में संतो से मिलेंगे और राम मंदिर निर्माण के अभियान को आगे बढ़ाएंगे।

कोकजे का कहना है कि राम मंदिर का निर्णय जल्द और हमारे पक्ष में ही आएगा। उन्होंने कहा कि राम मंदिर मसला आपसी सामंजस्य से सुलझ सकता है, लेकिन जो पक्षकार हैं, वो बाहर के हैं। उनका कहना था कि मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड जैसों का इससे कोई लेना-देना नहीं है। वो पक्षकारों को डराते हैं या भड़काते हैं। अयोध्या के मुस्लिम चाहते हैं कि वहां राममंदिर ही बने।

More from NationalMore posts in National »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.