Press "Enter" to skip to content

बच्चियों के साथ रेप की घटनाएं रोकने के लिए मोदी सरकार लाई ये बड़ा कानून

उन्नाव और कठुआ रेप की वारदात से पूरा देश शोक में डूबा हुआ है। हर इंसान पूरी तरह से चूच गया है और हर माता-पिता के दिल में एक डर सा बैठ गया है। हर माता-पिता बस ये सोच रहे है कैसे अपनी बेटी को महफूज रखे क्योंकि कुछ लोगों की हैवानियत का हरजाना एक पूरे परिवार को भुगतना पड़ता है। लेकिन लोग और भी ज्यादा तब से सहम गए है जब से इन मामलों में कुछ देश के वीआईपी लोगो का नाम आ गया है।

इन दोनों घटनाओं के बाद एक सवाल मन में खटकने लगा है कि जब देश के रक्षक ही भक्षक बन जाएंगे, तो महिलाओं की, लड़कियों की, बच्चियों की और इस देश की हिफाजत कौन करेगा। लेकिन इन मामलों के बढ़ने के बाद परेशान होकर सरकार भी एक अच्छी खबर देने जा रही है। जानकारी के मुताबिक जल्द ही सरकार एक कानून लाने वाली है। इस कानून के तहत 12 साल से कम उम्र की बच्ची के साथ कोई भी घिनौनी हरकत करने वाले दरिंदे को सीधे फांसी के तख्ते पर चढ़ाया जाएगा।

केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने शनिवार को कहा कि उनका मंत्रालय प्रोटेक्शन ऑफ चिल्ड्रन फ्रॉम सेक्सुअल ऑफेंस (पॉक्सो) एक्ट में संशोधन का एक प्रस्ताव तैयार कर रहा है। इस प्रावधान के तहत 12 साल से कम उम्र की नाबालिग बच्ची के साथ किसी बी तरह का दुष्कर्म करने वाले इंसान को सजा-ए-मौत दी जाएगी। मेनका गांधी का कहना है कि कड़ी सजा मजबूत प्रतिरोधक के तौर पर कार्य किया जाएगा और इस फैसले को अब तक के सबसे ऐतिहासिक फैसले के तौर पर देखा जाएगा। इस कानून के बाद उम्मीद की जा सकती है कि अब शायद इस तरह की घटनाएं न घटे।

अधिक जानकारी के लिए आपको बता दें कि पास्को एक्ट के तहत ज्यादा से ज्यादा उम्र कैद की ही सजा दी जाती है, लेकिन अब सरकार इस कानून में कुछ अहम और बड़े बदलाव किए जाएंगे। 16 दिसंबर 2012 निर्भया गैंगरेप के बाद उम्मीद थी कि शायद ये सभी घटनाएं कम होगी लेकिन अब तो माता-पिता के दिलों में और भी दहशत बनती जा रही है लेकिन अब सरकार के फैसलों पर भरोसा किया जा सकता है।

More from NationalMore posts in National »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.