Press "Enter" to skip to content

राहुल गांधी का उपवास बना उपहास, राजनीति गलियारों में हो रही है चर्चा

कांग्रेस पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी का उपवास शुरु होने से पहले ही काफी विवादों में आ गया है। जहां राहुल गांधी राजघाट काफी देर से पहुंचे। वहीं उनके पहुंचने से पहले मामला काफी विवादित हो गया है। इससे पहले यह खबर काफी तेज हुई थी जब मंच से जगदीश टाइटलर और सज्जन कुमार को हटा दिया गया था, इसकी वजह यह है कि वे 84 के दंगों के आरोपी हैं। टाइटल और सज्जन कुमार मंच तक तो पहुंचे लेकिन पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अजय माकन ने दोनों से बात की और उन्हें वापस भेज दिया गया।

वहीं राहुल के राजघाट पहुंचने का समय 11 बजे था, बाद में कहा गया कि वे 4 बजे तक उपवास रखेंगे फिर कहा गया कि वह केवल 2 घंटे तक उपवास रखेंगे। राहुल गांधी तय समय से 1 घंटे की देरी से स्थल पहुंचे। राहुल गांधी के देर से आने की जानकारी के बारे में पार्टी के कार्कर्ताओं को भी कोई जानकारी नहीं थी।

आपको बता दें कि कांग्रेस पार्टी केंद्र में नरेंद्र मोदी सरकार के खिलाफ आज देशव्यापी विरोध प्रदर्शन कर रही है। पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी राजघाट पर इस विरोध प्रदर्शन की अगुवाई करने वाले हैं। कांग्रेस दलितों पर अत्याचार के विरोध में एक दिन का देशव्यापी विरोध प्रदर्शन कर रही है। दिल्ली का विरोध प्रदर्शन इसी का हिस्सा होगा।

राजधानी में राहुल गांधी के साथ दिल्ली कांग्रेस प्रमुख अजय माकन और पार्टी के अन्य कार्यकर्ता सरकार के खिलाफ और सीबीएसई पेपर लीक, पीएनबी घोटाला, कावेरी विवाद, आंध्र प्रदेश को विशेष दर्जा दिए जाने जैसे मामलों पर विरोध प्रदर्शन करेंगे। कांग्रेस के इस हड़ताल के जवाब में बीजेपी ने 12 अप्रैल को देशव्यापी विरोध प्रदर्शन की घोषणा की है।

More from NationalMore posts in National »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.