स्वच्छ भोजन मुहैया कराने की कवायद में रेलवे!

by Taranjeet Sikka Posted on 0 comments
railway is trying to provide fresh and clean food

अगली बार जब भी आप रेल से सफर करेंगे तो आपको हो सकता है हवाई अड्डों की तरह साफ-सुथरे खाने का मौका मिल सकता है। अब यात्रियों को साफ-सुथरा खाना खिलाने की कवायद के तहत रेल में किचन बंद करने और खाना पूरी तरीक से बेस किचन में तैयार किया जाने के मौकों को तलाशा जा रहा है।

आईआरसीटीसी की योजना देशभर के एयरपोर्टों पर खानेपीने को पूरा करने वाली कंपनियों को रेलवे के साथ जोड़ने की है। इनमें फ्रांस की नामी कंपनी सोडेक्सो और ट्रैवल फूड सर्विसेज भी शामिल है। इसके अलावा आईआरसीटीसी चलती हुई ट्रेनों में भी यात्रियों को खाना उपब्ध कराने के लिए होटल उद्योगों की सेवाएं ले सकता है।

बेस किचन और ट्रेनों में खाना उपलब्ध कराने के लिए पहले ही प्राइस वाटर हाउस कूपर्स को सलाहकार चुन लिया गया है। इस पूरे घटनाक्रम की जानकारी रखने के लिए रेलवे मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा कि ‘अभी हमें ट्रेनों में मिलने वाले खाने और किचन को लेकर कई तरह की शिकायतें मिल रही हैं। हम पूरे देश में खाना बनाने की व्यवस्था को पूरी तरह से बेस किचन में स्थापित करना चाहते हैं। ट्रेनों में कैंटीन की तरह की पैंट्री रहेगी जिसमें केवल चाय या कॉफी मिलेगी।’

नई नीति के अनुसार रेल मंत्रालय खाने से संबंंधित सभी कामकाज को पूरी तरह से आईआरसीटीसी को सौंपना चाहता है। एक और मंत्रालय के अधिकारी ने बताया कि ‘हम ट्रेनों में खानपान की अवधारणा को बदलना चाहते हैं। हमारा लक्ष्य सोडेक्सो और टीएफएस जैसी कंपनियों को अपने साथ जोडने की है।’

सोडेक्सो के 80 से भी अधिक देशों में करीब 34,000 आउटलेट हैं। मीडिया रिपोर्टों की मानें तो कुछ ट्रेनों को छोड़कर राजधानी, शताब्दी और दुरंतो के साथ लगभग 350 ट्रेनों में पैंंट्री कार का प्रबंधन मंडल रेलवे द्वारा अनुबंधित ठेकेदारों के पास है।