Press "Enter" to skip to content

राम मंदिर निर्माण को लेकर RSS प्रमुख मोहन भागवत के बयान से फिर मचा बवाल, कहा….

राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत का एक बार फिर राम मंदिर निर्माण पर बड़ा बयान सामने आया है। भागवत ने कहा कि, यदि अयोध्या में राम मंदिर ‘‘ फिर से नहीं बनाया गया ’’ तो ‘‘ हमारी संस्कृति की जड़ें ’’ कट जाएंगी। मोहन भागवत ने पालघर जिले के दहानू में विराट हिंदू सम्मेलन में अपने संबोधन के दौरान यह टिप्पणी की थी।

आरएसएस प्रमुख ने कहा, ‘‘भारत में मुस्लिम समुदाय ने राम मंदिर नहीं तोड़ा, भारतीय नागरिक ऐसी चीजें नहीं कर सकते। भारतीयों का मनोबल तोड़ने के लिए विदेशी ताकतों ने मंदिरों को तोड़ा।’’ भागवत ने कहा , ‘‘लेकिन आज हम आजाद हैं हमें उसे फिर से बनाने का अधिकार है जिसे नष्ट किया गया था, क्योंकि वे सिर्फ मंदिर नहीं थे बल्कि हमारी पहचान के प्रतीक थे।’’

भागवत ने आगे कहा, ‘‘यदि (अयोध्या में) राम मंदिर फिर से नहीं बनाया गया तो हमारी संस्कृति की जड़ें कट जाएंगी। इसमें कोई शक नहीं कि मंदिर वहीं बनाया जाएगा जहां वह पहले था और इसके लिए किसी भी लड़ाई के लिए हम तैयार हैं।’’ आपको बता दें कि फिलहाल राम जन्मभूमि व बाबरी मस्जिद का विवादित मामला सर्वोच्च न्यायालय में है।

mohan bhagwat hoisted flag in kerala

आरएसएस प्रमुख ने विपक्षी पार्टियों पर भी हमला करते हुए उन्हें देश के कई हिस्सों में हुई हालिया जातिगत हिंसा के लिए जिम्मेदार बताया। भागवत ने कहा, ‘‘जिनकी दुकानें बंद हो गईं (जो चुनाव में हार गए) वे अब लोगों को जाति के मुद्दों पर लड़ने के लिए उकसा रहे हैं।’’

विश्व हिंदू परिषद के नए प्रमुख ने भी किया आह्वान

आपको बता दें कि इससे पहले विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) के नवनिर्वाचित अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष विष्णु सदाशिवम् कोकजे ने अपने पद की जिम्मेदारी संभालते ही मंदिर निर्माण को लेकर बयान दिया था। रविवार को उन्होंने कहा था कि विहिप अपने एजेंडे पर कायम है।

विष्णु सदाशिव कोकजे ने राम मंदिर पर कहा कि, अयोध्या में भव्य मंदिर शीघ्र बनेगा। कोकजे ने कहा कि संतों की अगुवाई में भगवान राम का भव्य मंदिर शीघ्र ही न्यायालय के आदेश या कानून बनाकर शीघ्र किया जाएगा और उन्हें पूरा विश्वास है कि वह अपने दायित्व को निभाने में पूरी तरह से कामयाब रहेंगे।

More from NationalMore posts in National »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.