एक बार फिर लापरवाही की भेंट चढ़ी इमारत, लोगों के मलबे में डबे होने की खबर…

दिल्ली से सटे ग्रेटर नोएडा के शाहबेरी में निर्माणाधीन छह मंजिला इमारत गिरने का मामला अभी शांत भी नहीं हुआ था कि गाजियाबाद के मिशलगढ़ी में निर्माणाधीन पांच मंजिला इमारत के ढहनेे का मामला सामने आया है। एक चश्मदीद के मुताबिक इमारत में दरार पड़ गई थी और मलबे में कई मजदूर दबे हुए हैं। बताया जा रहा है कि जिस इलाके में यह बिल्डिंग गिरी है, वह पूरी तरह से अवैध रूप से बसाई गई है। वहीं राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गाजियाबाद के डीएम और एसएसपी से मौके पर पहुंचकर राहत कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिए हैं, साथ ही आरोपियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया है।

राहत और बचाव कार्य शुरू

हादसे की सूचना मिलने के बाद मौके पर पुलिस और NDRF की टीम पहुंच चुकी है राहत और बचाव का कार्य शुरू कर दिया गया है। बचाव के कार्य में डॉग स्क्वायड की भी मदद ली जा रही है। स्थानीय लोगों के मुताबिक इमारत के गिरते उमसें कई मजदूर मौजूद थे। फिलहाल हादसे के बाद 2 बच्चों समेत सात लोगों को मलबे से बाहर निकाल लिया गया है।

एक मजदूर की मौत 

गाजियाबाद निर्माणाधीन बिल्डिंग हादसे में घायल महिला गुलाबरानी (47), शिवा (8) व देवेन्द्र (5) साल की हालत गंभीर बनी हुई है। तीनों को जिला संयुक्त अस्पताल से जीटीबी दिल्ली रेफर कर दिया गया है। हादसे 35 वर्षीय एक मजदूर की मौत भी हो गई जिसका नाम अभी नहीं पता चल सका है। वहीं एक और घायल रईश को अस्पताल में भर्ती करवाया गया है।

गौरतलब है कि ग्रेटर नोएडा के शाहबेरी में मंगलवार की रात करीब 9 बजे दो इमारतें भरभराकर गिर गईं थीं।शनिवार सुबह नोएडा के सेक्टर-63 से बेसमेंट की दीवार गिर गई थी जिसमें एक बच्चेे की मौत हो गई थी।शाहबेरी में छह मंजिला इमारत का जमींदोज होना सिर्फ एक हादसा भर नहीं था। बल्कि इस हादसे ने धराशायी हो चुके सरकारी सिस्टम को भी उजागर हुआ है। जो इमारत धराशायी हुई थी, वह अवैध थी।

दिल्ली-एनसीआर में बनी सैकड़ों इमारतों की भी कमोबेश यही स्थिति है। बिल्डर परियोनाओं में खरीदारों को कब्जे के साथ ही फ्लैट के प्लास्टर व दीवार गिरने की घटनाएं सामने आ चुकी हैं। इन घटनाओं से बहुमंजिला इमारतों में रहने वाले दशहत में आ चुके हैं। बिल्डरों ने अधिक से अधिक फायदा कमाने के लिए मानकों को दरकिनार कर घटिया निर्माण सामग्री लगाई है।

सुरक्षित नहीं है साइबर सिटी

ग्रेटर नोएडा और गाजियाबाद के बाद साइबर सिटी भी सुरक्षित नहीं है। ऐसा इसलिए क्योंकि शहर में नगर निगम से बिना नक्शा पास करवाए और हरियाणा बिल्डिंग कोड 2017 की अवहेलना कर जगह-जगह अवैध निर्माण किए जा रहे हैं। सस्ते बिल्डर फ्लोर बेचने के फेर में कई बिल्डर इमारतों की क्वालिटी से भी समझौता कर रहे हैं। सस्ते घर का सपना दिखाकर लोगों को झांसे में लिया जा रहा है। ऐसे में ग्रेटर नोएडा और गाजियाबाद जैसा हादसा गुरुग्राम में भी हो सकता है।

  • Show Comments (0)

Your email address will not be published. Required fields are marked *

comment *

  • name *

  • email *

  • website *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

You May Also Like

सीएम योगी को करना था बस स्टेशन का उद्घाटन लेकिन ये कर बैठे…

यूपी में बदलाव शुरू हो गए है और विकास कार्य अभी भी जारी है। ...

RAILWAY PREPARED BRIDGE IN 7 HOURS

70 मजदूर और 7 घंटों में रेलवे ने तैयार कर दिया ये पुल

देश की लाइफ लाइन भारतीय रेल ने अपने नाम एक और उपलब्धि हासिल की ...

योगी सरकार बचा सकती थी लोगों की जान, अगर उठाया गया होता ये कदम…

वाराणसी में बीती रात हुए हादसे में 18 लोगों की मौत के बाद से ...

Kidney Racket Busted by MBA Student, 4 Held

दिल्ली: अपनी जान पर खेलकर एमबीए के इस छात्र ने किडनी का सौदा करने वालों को पहुंचाया जेल

दिल्ली में एक बड़े किड़नी रैकेट का पर्दाफाश हुआ है। ये खुलासा एमबीएम के ...

patna-city-three-dead-in-stampade-during-kartik-purnima-holy-bath-in-bihar

बेगुसराय हादसे में डीएम का बयान ‘यह भगदड़ नहीं बल्कि सांस न ले पाने की वजह से बुजुर्गों की हुई है मौत’

बिहार के बेगूसराय जिले में कार्तिक पूर्ण‍िमा के मेले में स्नान करने वाले श्रध्दालुओं ...

why-modi-government-is-silent-on-naga-issue

नागा शांति समझौते पर क्यों खामोश है मोदी सरकार?

– रविन्द्र कुमार पूर्वोतर में शांति स्थापित करने को मोदी सरकार एक बड़ी कामयाबी ...