Press "Enter" to skip to content

अखिलेश को जेल जाने से बचाने के लिए मुलायम सिंह पहुंचे योगी आदित्यनाथ के पास

कर्नाटक चुनाव से वैसे ही देश का माहौल कुछ ज्यादा ही गर्म चल रहा है, सभी के मन में एक ही सवाल है कि बीजेपी सरकार बना पाएगी या फिर ये सुनहरा मौका जो बीजेपी को मिला है वो भी उनके आथ से निकल जाएगा और अगर बीजेपी के हाथ से ये मौका निकल गया तो देश में कांग्रेस और जेडीएस समर्थन वाली सरकार आ जाएगी। जिसके बाद देश की हालत का कर्नाटक की हालत का अंदाजा लगाना भी नामुमकिन के बराबर हो जाएगा। सिर्फ कर्नाटक चुनाव ही नहीं योगी सरकार पर लग रहे आरोपों से भी माहौल काफी गर्माया हुआ है।

आपको बता दें कि पिछले कुछ दिनों से योगी सरकार पर कई सवाल खड़े हो रहे है और विपक्ष भी सीएम योगी पर जमकर निशाना साध रहा है। जिसके बाद विपक्ष का मकसद सिर्फ जनता को सीएम योगी के खिलाफ भडकाना है। अभी जिस मामले की हम बात कर रहे है वो वाराणसी का मामला है जिसमें अबी तक कई लोगों की जान जा चुकी है और ओवरब्रिज गिरने की वजह से वाराणसी में काफी अफरी-तफरी मच गई थी और कई लोगों को अपनी जान गवानी पड़ी थी।

इस घटना के बाद से ही सीएम योगी पर कई आरोप लगने लग गए और विपक्ष एक जुट होकर सीएम योगी के खिलाफ हो गया। लेकिन अगर हम सपा के समय की बात करे तो इस ओवरब्रिज के टेंडर अखिलेश यादव की सरकार में ही निकल चुका था और इस हिसाब से अगर इस घटना को जोड़ कर देखे तो िस पूरी घटना की जिम्मेदार सिर्फ अखिलेश सरकार ही है। सीएम योगी को इस घटना का जिम्मेदार मानना बेहद गलत होगा।

अखिलेश सरकार ने अपना मुंह छुपाने के लिए सारा आरोप योगी सरकार पर लगाना शुरू कर दिया था। जिसके बाद कुछ तथाकथित राजनीतिक दलों ने भी सीएम योगी पर सभी आरोप लगा दिए और अखिलेश यादव का प्लान काम कर गया और वो छुपे रह गए। लेकिन इस घटना के लिए सीएम योगी को जिम्मेदार मानना बिलकुल गलत है। इस घटना के लिए जेल जाने के हकदार सिर्फ अखिलेश यादव है।

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.