वडोदरा-सूरत तक साबरकांठा मामले की आग का असर, यूपी-बिहार के लोगों का पलायन जारी

गुजरात में उत्तर भारतीयों पर हमलों की स्थिति बनी हुई है, भले ही इस पर राज्य के मुख्यमंत्री विजय रुपानी का दावा हो कि अब इस तरह की घटना नहीं हो रही है, लेकिन आपको बता दें कि मंगलवार को ही सूरत और वडोदरा से हिंसा का मामला सामने आया है। मंगलवार को वडोदरा में हिन्दी भाषी लोगों से वाली ट्रेन पर हमला किया गया, ट्रेन की 6 बोगियों में भी काफी तोड़फोड़ की गई। गुजरात में उत्तर प्रदेश और बिहार के लोगों में इन हमलों का काफी डर बना हुआ है और ये लोग राज्य से पलायन करने के लिए मजबूर हो गए हैं। अभी तक इस मामले में कुल 25 लोगों को गिरफ्तारी किया जा चुका है।

 

 

मंगलवार के दिन भी सूरत, अहमदाबाद समेत कई औद्योगिक क्षेत्रों से लोग वापस लौट रहे हैं। हालांकि, इस बीच ही पुलिस सभी घटनाओं पर कार्रवाई कर रही है। पुलिस ने मंगलवार को 6 व्हीकल जब्त किए और एक व्यक्ति को हिरासत में लिया है।  जो लोग गुजरात छोड़ अपने घरों को लौट रहे हैं उनके पास नौकरी भी नहीं रह गई है। वो जल्दी-जल्दी में बिना अपनी तनख्वाह लिए ही घर जा रहे हैं। यूपी-बिहार के लोगों का गुजरात छोड़ कर जाना वहां के व्यवसाय के लिए भी एक परेशानी बन रहा है।

 

 

अभी तक इस मामले को लेकर राज्यभर में कुल 68 FIR दर्ज की जा चुकी हैं, जबकि 500 से ज्यादा लोगों की गिरफ्तारी भी की गई है। जैसे-जैसे गुजरात में ये मामले सामने आ रहे हैं, इन पर राजनीति भी तेज होती नजर आ रही है। कांग्रेस के साथ ही बाकी विपक्षी पार्टियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा है। वहीं बीजेपी ने अल्पेश ठाकोर के बहाने इन घटनाओं का जिम्मेदार कांग्रेस को ही ठहरा दिया है।

 

 

इसके अलावा पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने मंगलवार को एक हेल्पलाइन नंबर जारी किया है कि अगर कोई भी उत्तर भारतीय पर हमला होता है तो वह उन्हें खबर करे, ये राज्य सभी के लिए है।

 

hardik do a press conference against bjp

 

आपको बता दें कि, राज्य के साबरकांठा जिले में 28 सितंबर को 14 महीने की एक बच्ची के साथ बलात्कार हुआ था और इस आरोप में बिहार के निवासी मजदूर को गिरफ्तार किया गया था। इस घटना के इसके बाद से ही, 6 जिलों में हिन्दी भाषी लोगों के खिलाफ हिंसक घटनाएं हुईं। जिनमें से ज्यादातर जिले उत्तर गुजरात के हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.