PM मोदी का ममता पर अटैक, बोले- ‘सीएम दीदी हैं लेकिन दादागिरी…’

Election, News

पश्चिम बंगाल की ममता सरकार और मोदी सरकार के बीच विवाद थमने का नाम ही नहीं ले रहा है। आज प्रधानमंत्री मोदी ने पश्चिम बंगाल में चुनावी रैली को संबोधित किया और ममता बनर्जी पर जमकर निशाना साधा। प्रधानमंत्री मोदी ने जलपाईगुड़ी में कई परियोजनाओं की आधारशिला रखी और मोदी ने रैली को संबोधित करते हुए कहा कि यहां से मेरा पुराना संबंध है। आप चाय उगाने वाले है और मैं चाय बनाने वाला, लेकिन चायवालों से दीदी को इतनी चिढ़ क्यों है। हम गरीब को लूटने वाले, देश की सेना को धोखा देने वाले राज़दारों को विदेशों से उठाकर ला रहे हैं और ये उनको बचाने के लिए पूरी ताकत लगा रहे हैं।

पीएम मोदी ने आगे कहा कि मैं चिटफंड घोटाले के पीड़ित को विश्वास दिलाता हूं कि आपको इस स्थिति में पहुंचाने वालों को कानून के दरवाजे तक पहुंचाया जाएगा। आखिर ममता दीदी चिटफंड घोटाले की जांच से आप इतना क्यों डरी हुई हैं? क्यों जिन लोगों पर जांच में लापरवाही बरतने का आरोप है उनके लिए धरना दे रही हैं ?

बता दें कि कल राहुल गांधी ने अपने संबोधन में तीन तलाक पर बोलते हुए कहा था कि अगर कांग्रेस सत्ता में आती है तो वो तीन तलाक को खत्म कर देगी। तो पीएम मोदी ने राहुल के इसी बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि महिला अधिकारों पर झूठ बोलने वाली कांग्रेस ने अपनी असली सच्चाई भी देश के सामने रख दी है। तुष्टिकरण के लिए कांग्रेस किस हद तक जा सकती है, ये भी उसने फिर बता दिया है। कांग्रेस भूल गई है कि तीन तलाक से पीड़ित मुस्लिम महिलाओं को कितने बुरे दौर से गुजरना पड़ता है, कितने संकटों से गुजरना होता है, लेकिन तुष्टिकरण के लिए किसी भी हद से गुजरने वाली कांग्रेस ने न सिर्फ तीन तलाक कानून को संसद में रोका, बल्कि उसे अब खत्म करने की भी बात करने लगी है। मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि तीन तलाक के कानून को नहीं हटाने दिया जाएगा।

पीएम मोदी के शब्दों का अंत यहीं नहीं हुआ। उन्होंने ममता पर हमला बोलते हुए कहा कि दीदी, दिल्ली जाने के लिए परेशान हैं और बंगाल के गरीब, मध्यम वर्ग को सिंडिकेट के गठबंधन से लुटने के लिए छोड़ दिया है। आज स्थिति ये है कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री तो दीदी हैं, लेकिन दादागिरी किसी और की चल रही है। पीएम मोदी ने अपने संबोधन के दौरान कहा कि पश्चिम बंगाल में मां, माटी, मानुष के नाम पर जिनको आपने सत्ता दी, जिनको कम्यूनिस्टों के कुशासन से मुक्ति दिलाने का जिम्मा दिया। आज उन्होंने वही खून-खराबे का पॉलिटिकल कल्चर अपना बना लिया है।

Leave a Reply