नीतीश को मनाने के लिए अमित शाह ने निकाला ये फॉर्मुला

लोकसभा चुनाव नजदीक आते जा रहे है और बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने चुनाव के लिए अपना काम करना शुरु कर दिया है। लोकसभा चुनाव के लिहाज से बिहार की 40 सीटें काफी खास मानी जाती है। पिछले लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने बिहार में काफी अच्छा प्रदर्शन किया था और 40 में से 31 सीटों पर जीत दर्ज की थी तो वहीं जेडीयू के साथ आने से ये बढ़कर 33 हो गई।

अमित शाह के बिहार दौरे पर सभी के मन में एक ही बात चल रही है कि बीजेपी अपनी सहयोगी पार्टियों को कितनी सीटें देगा। सीट बंटवारे पर क्या अमित शाह अपने सहयोगियों की बात मानेंगे या फिर अपनी ही बात मनवाने की कोशिश करेंगे। तो वहीं ये सवाल भी उठ रहा है की क्या नीतीश कुमार बीजेपी के साथ सीट को लेकर सामंजस्य बैठा पाएंगे।

गौरतलब है कि अमित शाह को बीजेपी का चाणक्य माना जाता है। इसी कारण ऐसा माना जा रहा है कि अमित शाह सभी सहयोगियों के लिए कोई न कोई फॉर्मूला जरूर लेकर आएंगे। लेकिन अमित शाह और नीतीश कुमार दोनों के लिए ही सीट बंटवारे से भी ज्यादा अधिक अहम मुद्दा है। जो दोनों के लिए काफी महत्वपूर्ण भी बनता जा रहा है। दरअसल दोनों पार्टियों को मोदी लहर से नुकसान पहुंचा है और उसी मुद्दे पर अमित शाह और नीतीश कुमार दोनों अपनी मंत्रणा करेंगे।

इतने सीट जीतने के बाद भी मोदी लहर में बिहार की 7 सीटें बीजेपी से अछूती रह गई है। तो वहीं नीतीश कुमार को मोदी लहर और आरजेडी का साथ देने से काफी नुकसान उठाना पड़ा है। नीतीश कुमार अपनी सीटों पर फिर से काबिज होना चाहते है जिन्हें बीजेपी ने अपने पाले में कर लिया था। इसलिए नीतीश कुमार अमित शाह से इसे लेकर मंत्रणा जरूर करेंगे।

वहीं, अमित शाह की नजर बिहार की उन 7 सीटों पर है जिसे जीतने के लिए उन्हें नीतीश कुमार की जरूरत होगी। नीतीश कुमार के सेक्यूलर चेहरे की वजह से बीजेपी सीमांचल में अपना पांव मजबूत करना चाहती है। क्योंकि देश में मोदी लहर के बावजूद सीमांचल में बीजेपी अपनी जगह बनाने में असफल रही थी। हालांकि बीजेपी की इस रणनीति में नीतीश कुमार उनका साथ जरूर देंगे। लेकिन बीजेपी को भी नीतीश कुमार की बातों पर ध्यान देना होगा।

  • Show Comments (0)

Your email address will not be published. Required fields are marked *

comment *

  • name *

  • email *

  • website *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

You May Also Like

AFTER ATAL GOVERNMENT HATES DEVELOPMENT

वाजपेयी के बाद आई सरकार को विकास से नफरत थी- पीएम मोदी

दो दिन के गुजरात दौरे पर आए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को अपने गृह ...

कांग्रेस ने जारी किया अजीबो-गरीब फरमान, टिकट चाहिए तो करना होगा ये जरूरी काम…

इस साल के अंत में मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। जिसके ...

यशवंत सिन्हा के इस्तीफा देने के बाद अब अगला नंबर शत्रुघन सिन्हा का

राजनीतिक घमासान तेजी से आगे बढ़ रहा है और इसी का एक नजारा आज ...

tejaswi might give resignation after president election

राष्ट्रपति चुनाव के बाद अपना इस्तीफा दे सकते हैं तेजस्वी!

बिहार में आरजेडी और जेडीयू के महागठबंधन में दरार बढ़ती ही नजर आ रही ...