Press "Enter" to skip to content

जानें कैसे कर्नाटक विधानसभा में बीजेपी साबित करेगी बहुमत

कर्नाटक विधानसभा चुनाव में रोज कुछ न कुछ अलग ही देखने को नजर आ रहा है। यह बात तो साफ है कि अब तक कर्नाटक चुनाव में किसी को भी पूर्ण बहुमत नहीं मिल पाया है और अब सवाल यहां पर आकर उठने लगा है कि आखिर कौन कर्नाटक चुनाव में बहुमत साबित करने में कामयाब हो पाएगा।

फिलहाल इस मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला भी आ गया है जिसमें कल शाम 4 बजे सुप्रीम कोर्ट ने प्लोर टेस्ट का ऐलान कर दिया है और साथ ही बीजेपी ने भी दावा कर दिया है कि वह सदन में बहुमत साबित करेंगे। अब ये देखना काफी दिलचस्प होगा कि इन चुनाव में बहुमत साबित करने के लिए बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह क्या-क्या हथकंडे अपनाते है।

आपको बता दें कि बुधवार को कांग्रेस विधायक दल की बैठक में पार्टी के 4 विधायक शामिल नहीं हुए थे। इसके अलावा जेडीएस के दो विधायक भी अपनी पार्टी की बैठक में नहीं दिख रहे थे। बीजेपी सूत्रों ने इन विधायकों के बीजेपी के संपर्क में होने का दावा भी किया है साथ ही दो निर्दलीय विधायक के लिए भी दावा किया जा रहा है कि वह भी बीजेपी के संपर्क में है।

कर्नाटक विधानसभा में विश्वास मत के वक्त कांग्रेस और जेडीएस के कम से कम 15 विधायकों को गैर हाजिर रखने की प्लानिंग की जा रही है। इससे सदन में संख्या बल 222 से घटकर 207 हो जाती है। और बीजेपी अपने 104 विधायकों के दम पर आसानी से बहुमत साबित कर सकेगी। बहुमत का जादुई आंकड़ा 112 से घटकर 104 पर आ जाएगा।

इतना ही नहीं, बीजेपी इस कोशिश में जुटी हुई है कि लिंगायत सम्मान को भी मुद्दा बनाया जाए। सूत्रों के मुताबिक बताया गया है कि बीजेपी कांग्रेस के लिंगायत विधायकों के संपर्क में हैं। इसके लिए पार्टी लिंगायत मठों से संपर्क साध रही है, जिससे लिंगायत समुदाय के विधायक येदियुरप्पा के संपर्क में आ जाएं। इस बार कांग्रेस के 21 और जेडीएस के 10 विधायक लिंगायत समुदाय से हैं।

More from National PoliticsMore posts in National Politics »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.