Press "Enter" to skip to content

जानिए क्यों कर्नाटक में 24 घंटे के अंदर गिर सकती है बीजेपी सरकार

कर्नाटक चुनाव का मामला िस समय सुर्खियों में बना हुआ है। हर किसी की नजर सिर्फ कर्नाटक चुनाव में चल रही सियासत की गर्मी पर टिकी हुई है। इसके साथ ही आज कर्नाटक के 25वें मुख्‍यमंत्री के तौर पर बीएस येदुरप्‍पा ने सुबह 9 बजे ही सीएम पद के लिए शपथ ले ली है। उन्हें सीएम पद की शपथ राज्यपाल वजुभाई वाला ने दिलाई थी और येदुरप्‍पा ने बतौर मुख्यमंत्री तीसरी बार कर्नाटक की कमान संभाली है।

येदुरप्‍पा ने जब से सीएम की कुर्सी संभाली है तब से पूरी पार्टी में जश्न का माहौल बना हुआ है, वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस और जेडीएस दोनों हैरान रह गए हैं। अब सीएम येदुरप्‍पा के लिए सबसे बड़ी चुनौती 15 दिनों के अंदर अपना बहुमत साबित करना होगा।

कांग्रेस और जेडीएस नेताओं का विरोध प्रदर्शन

गर्वनर का फैसला आने के बाद उनके खिलाफ गुलाम नबी आजाद, अशोक गहलोत और पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया समेत कांग्रेस विधायकों और नेताओं ने विधानसभा के बाहर महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने विरोध प्रदर्शन करने शुरू कर दिया है और देखा जाए तो बीजेपी को जीत के निकट देख कांग्रेस और जेडीएस का ऐसा करना स्वभाविक था। लेकिन इस विरोध में सबसे खास बात ये रही है कि आज के धरने में वो दो निर्दलीय विधायक भी शामिल हुए हैं, जो कि कल तक बीजेपी के साथ खड़े होने की बात कर रहे थे और यह एक बड़ी वजह है कि बीजेपी काफी हैरान हो रखी है।

SC ने मांगा है ‘समर्थन पत्र’

आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई करीब रात 3.30 बजे तक चली ती और इस ऐतिहासिक सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने येदुरप्‍पा के शपथ ग्रहण पर तो रोक लगाने से इनकार कर दिया। इस मामले की सुनवाई अब शुक्रवार सुबह 10:30 बजे होगी, जिसमें कोर्ट ने दोनों पक्षों से विधायकों की लिस्ट भी लाने को कहा है।

अगले 24 घंटे में ही जा सकती है CM येदुरप्‍पा की कुर्सी!

24 घंटे के अंदर बीजेपी के लिए 112 विधायकों की लिस्ट सौंपना आसान नहीं है, ऐसे में येदुरप्‍पा को बहुमत साबित करना एक बड़ी चुनौती है, अगर वो ऐसा नहीं कर पाते तो उनकी आज की खुशी पर कोर्ट का डंडा चल सकता है और मात्र 24 घंटे के अंदर ही येदुरप्‍पा अपनी सीएम की कुर्सी गंवा सकते हैं।

More from National PoliticsMore posts in National Politics »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.