अब लालू यादव का परिवार और आरजेडी की कमान संभालेंगी ये महिला, नाम सुन चारों खाने चित हो जाएगी बीजेपी…

एश्वर्या राय के दादा दारोगा प्रसाद राय साल 1970 में बिहार के मुख्यमंत्री भी रह चुके है जबकि एश्वर्या के पिता चंद्रिका राय भी राज्य में मंत्री पद पर रह चुके हैं। इसलिए राजनीति इनके खून में ही हैं। इन सबके बावजूद ऐश्वर्या राजनीति से काफी दूर रही थी। राजनीति में ऐश्वर्या ने सुर्खियां बटोरनी तब शुरु की थी जब एक समय बिहार के फायरब्रांड नेता और पूर्व मुख्यमंत्री लालू यादव उनके ससुर बने थे। ऐश्वर्या राय की शादी पिछली 12 मई को ही लालू यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव से हुई थी।

लालू के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव की शादी को अभी 2 महीने भी नहीं हुए और जिस तेजी से उनकी पत्नी ऐश्वर्या राय इस वक्त अखबारों में सुर्खियां ले रही हैं और मीडिया के अंदर छा गई है। उससे एक बात तो साफ है कि लालू कुनबे में राबड़ी देवी के बाद एक बार फिर से नारी शक्ति का उदय होने जा रहा है।

पार्टी के स्थापना दिवस के लिए छपे बैनर और पोस्टरों में ऐश्वर्या को जिस तरह से जगह दी गई थी। उससे इस चर्चा ने जोर पकड़ लिया है कि, जल्द ही लालू परिवार के इस नए सदस्य की राजनीति में एंट्री होगी जो अपने पति तेज प्रताप के अधूरे सपने को सच करेगी।

गौरतलब है कि ऐश्वर्या की मां ने अभी इस बात का खंडन किया है कि वो किसी तरह के चुनाव लड़ने वाली है। लेकिन जिस तरह से कार्यकर्ता उनके राजनीति में आे की बात से उत्साहित है और देश में चर्चा शुरु हो गई है कि वो अगले चुनाव में लड़ सकती है। उसे देखते हुए हो सकता है कि ऐश्वर्या चुनाव मैदान में उतर पड़े।

आपको बता दें कि लालू के जेल जाने के बाद से ही आरजेडी की छवि को गहरा नुकसान पहुंचा था और ऐशे में अगर अब लालू परिवार की ये महिला सामने आकर चुनाव में उतर जाती है तो जरूर इससे पार्टी को अलग बल मिलेगा।

  • Show Comments (0)

Your email address will not be published. Required fields are marked *

comment *

  • name *

  • email *

  • website *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

You May Also Like

नीतीश को मनाने के लिए अमित शाह ने निकाला ये फॉर्मुला

लोकसभा चुनाव नजदीक आते जा रहे है और बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने चुनाव के ...

pm dont like to talk about his work

मोदी से पंगा लेने पर टूटते है लोगों के घर

सुप्रीम कोर्ट ने आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट के बंगले को तोड़ने पर रोक लगाने ...

resignation of mayawati in rajyasabha

माया का इस्तीफा कहीं डूबते को तिनके का सहारा तो नहीं!

अकसर हम देकते हैं कि नेता अपनी कुर्सी संभालने के लिए किसी भी हद ...