Press "Enter" to skip to content

जम्मू-कश्मीर में गिरी PDP-BJP सरकार, अब क्या है महबूबा के पास विकल्प…

Spread the love

जम्मू-कश्मीर में बीजेपी और पीडीपी के साथ चल रही गठबंधन सरकार से बीजेपी ने किनारा कर लिया है। बीजेपी की तरफ से समर्थन वापस लेने का ऐलान कर दिया गया है। बीजेपी के वरिष्ठ नेता राम माधव ने मंगलवार को कहा है कि केंद्र सरकार की तरफ से पूरी मदद दी गई है लेकिन महबूबा सरकार हालात को सुधारने में पूरी तरह से नाकाम रही है। कश्मीर घाटी में हालात तेजी से खराब हो रहे हैं और अब राष्ट्रीय सुरक्षा और एकता को दिमाग में रखते हुए बीजेपी ने गठबंधन सरकार से अलग होने का फैसला किया है। आइए समझते हैं कि महबूबा सरकार के लिए आगे क्या विकल्प हैं।

आपको बता दें कि बीजेपी ने राज्य में राज्यपाल शासन लगाने की सिफारिश कर दी है। ऐसे में जम्मू-कश्मीर में महबूबा मुफ्ती की सरकार के लिए संकट खड़ा हो गया है। पिछले विधानसभा चुनाव के नतीजों पर अगर नजर डालें तो जम्मू-कश्मीर में कुल 87 सीटें हैं और इनमें से 28 सीटों पर पीडीपी को, बीजेपी को 25 पर, 15 पर नैशनल कॉन्फ्रेंस और कांग्रेस को 12 सीटों पर जीत मिली थी। इसके अलावा बाकी दलों के खाते में 7 सीटें गई थी।

पहला समीकरण

चुनाव में फिलहाल 3 साल का वक्त बाकी है और ऐसे में गठबंधन सरकार को बनाने की फिर से कोशिश की जा सकती है तो पीडीपी को कांग्रेस के अलावा अन्य दलों की भी जरूरत होगी, जिससे बहुमत का आंकड़ा 44 का हासिल किया जा सकेगा। ऐसे में अगर समीकरण बनता है तो पीडीपी की 28, कांग्रेस की 12 और अन्य की 7 सीटें, ये सभी मिलाकर अगर सरकार बनाते हैं तो कुल 47 सीटें हो जाती है जिससे बहुमत पूरा हो जाता है लेकिन इसमें परेशानी की बात कांग्रेस है क्योंकि कांग्रेस की तरफ से पीडीपी को लेकर नकारात्मक रवैया रहा है।

दूसरा समीकरण

अगर कांग्रेस-पीडीपी के बीच में तालमेल नहीं बन पाता तो महबूबा मुफ्ती के पास दूसरा विकल्प नैशनल कॉन्फ्रेंस के साथ हाथ मिलाने का ही बचता है और ऐसे में 44 के आंकड़े के लिए भी अन्य की जरूरत होगी क्योंकि उमर अब्दुल्ला के पास भी 15 विधायक है और वो अगर पीडीपी के 28 विधायकों के साथ जुड़ जाते हैं तब भी बहुमत पूरा नहीं होता है।

तीसरा समीकरण

अगर इन समीकरणों पर किसी तरह की सहमति नहीं बन पाती है तो फिर गवर्नर रूल लागू करना होगा। इसे आगे भी बढ़ाया जा सकता है और इसके बाद चुनाव में जाने का ही एक रास्ता बचता है। राज्य के उपमुख्यमंत्री कविंदर गुप्ता ने ऐलान कर दिया है।

More from National PoliticsMore posts in National Politics »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.