Press "Enter" to skip to content

पूर्व नौकरशाहों ने पीएम मोदी को लिखा खत, उड़ा दी सरकार की नींदें

हमारे देश में दानवता चरम सीमा पर पहुंच गई है और कहीं भी महिलाएं सुरक्षित नहीं है। कुछ दरिंदों की दरिंदगी के चलते आज लड़कियां सड़कों पर चलने से डरने लगी है और इसी वजह से माता-पिता को भी अपनी बच्चियों पर रोक-टोक करनी पड़ती है। कठुआ और उन्नाव में हुई घटनाओं से पूरा देश शोक में है। सड़कों पर प्रदर्शन करने से लेकर सोशल मीडिया तक लोगों ने इन दोनों गैंगरेप के मामलों की कड़े शब्दों में काफी निंदा की हैं। इन्हीं दोनों मामलों के चलते पूर्व नौकरशाहों ने भी पीएम मोदी को एक खुला खत लिखा है। रविवार को 49 सेवानिवृत्त सिविल सेवा अधिकारियों के पूरे समूह ने इसमें देश की आतंकित करने वाली स्थिति के लिए सिर्फ सरकार पर ही कई सवाल खड़े किए है और सरकार को ही इसका जिम्मेदार ठहराया है।

आपको बता दें कि इस खत में सख्त लहजे में सरकार की कड़ी निंदा करते हुए कहा गया है कि यह हमारा वो दौर है जो सबसे अंधकारमय है और अभी तक केंद्र सरकार और राजनैतिक पार्टियां इस दौर को खत्म करने में पूरी तरह से विफल साबित हुई है। इस खत में लिखा गया कि इन घटनाओं से लगता है कि नागरिक सेवाओं से जुड़े हमारे देश के युवा साथी भी लगता है कि अपनी सभी जिम्मेदारियां सही ढंग से पूरी करने में विफल साबित हुए हैं। पूर्व नौकरशाहों ने आलोचना के बाद पीएम से अपील की है कि प्रधानमंत्री खुद जाकर कठुआ और उन्नाव में इतनी पीडा सह रहे परिवारों से माफी मांगे और इन मामलों की फास्ट ट्रैक जांच कराने के साथ ही साथ सभी दलों की एक बैठक भी बुलाएं।

जम्मू-कश्मीर के कठुआ में 8 साल की बच्ची के साथ हुए गैंगरेप ने और उत्तर प्रदेश के उन्नाव में 17 साल की लड़की के साथ हुए गैंगरेप के इन दोनों मामलों ने पूरे देश को दहलाया है। यूपी में एक हफ्ते पहले ही एक महिला ने सीएम आवास के बाहर खुद को आग लगाकर खुदखुशी करने की कोशिश की थी। साथ ही लड़की ने आरोप लगाया था कि बीजेपी के विधायक कुलदीप सिंह सेंगर ने उसके साथ रेप किया है। जब यह मामला बढ़ा और मामले पर विरोध बढ़ने लगा तो इस मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी गई और सीबीआई ने आरोपी विधायक को तुरंत ही गिरफ्तार कर लिया।

अब अगर हम कठुआ गैंगरेप की बात करे तो कठुआ में आठ साल की मासूम बच्ची को पहले घर से अगवा कर दिया गया। फिर दरिंदों ने अपनी हवस खत्म करने के लिए मासूम को अपना शिकार बनाया और बाद में बच्ची को मौत के घाट उतार दिया था। इन दोनों मामलों के बाद भी रेप की घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रही। हाल ही में गुजरात के सूरत से एक नाबालिग बच्ची का शव बरामद किया गया और उस नौ साल की मासूम के शरीर पर करीब 86 से भी ज्यादा चोटों के निशान मिले। पीएम ने इन सभी मामलों पर लेट प्रतिक्रया देते हुए शुक्रवार को चुप्पी तोड़ी और कहा, “किसी भी अपराधी को बख्शा नहीं जाएगा। पूरा न्याय होगा और बेटियों को इंसाफ दिया जाएगा।”

टि्वटर पर इन मामलों को लेकर प्रधानमंत्री कार्यालय के हैंडल से लिखा गया, “जो घटनाएं हमनें बीते दिनों देखीं, वे सामाजिक न्याय की अवधारणा को चुनौती देती हैं। बीते 2 दिनों में जो घटनाएं चर्चा में हैं, वे निश्चित तौर पर किसी भी सभ्य समाज के लिए शर्मनाक हैं। एक समाज के रूप में। दूसरा देश के रूप में हम सब इसके लिए शर्मिंदा हैं।”

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.