Press "Enter" to skip to content

राष्ट्रपति चुनाव: विधायक संसद में तो सांसद विधानसभा में डालेंगे वोट, कुछ नेता नहीं डाल पाएंगे वोट

Spread the love

भारत के 14वें राष्ट्रपति चुनाव के लिए आज मतदान किया जा रहा है। ये मतदान सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे तक चलेगा। संसद भवन और अलग-अलग राज्यों/ केंद्र शासित प्रदेशों की विधानसभाओं में चुनाव की तैयारियां पूरी हो चुकी हैं और यह भी तय हो चुका है कि कौन कहां पर वोट डालेगा और किसे वोट करने की इजाजत नहीं दी जाएगी। नई दिल्ली में संसद भवन के कमरा नंबर 62 को निर्वाचन केंद्र बनाया गया है।

 

बैलेट पेपर से होगा मतदान

देश में ईवीएम पर चाहे जो भी बहस हो रही हो लेकिन राष्ट्रपति चुनाव कागज के मतदान-पत्र यानी बैलेट पेपर से ही होगा। मतदान पूरा होने के बाद देश की सभी विधानसभाओं से मतपेटियां नई दिल्ली लाई जाएंगी और उन्हें संसद भवन के कमरा नंबर 62 में रखा जाएगा। वोटों की गिनती 20 जुलाई को होगी और इसके लिए आठ राउंड तय किए गए हैं और चार टेबल पर मत गिने जाएंगे।

 

कुछ विधायक संसद में तो कई सांसद विधानसभा में डालेंगे वोट

सांसदों के साथ ही 5 विधायक भी संसद भवन में मतदान करेंगे। इसमें बेजेपी अध्यक्ष अमित शाह और असम के पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई के अलावा सिक्किम के शेर बहादुर सुबेदी, कमलसिंह नर्जरी, अरुणाचल प्रदेश के जोमदे केन शामिल हैं।

 

हालांकि कई सांसद भी अपना वोट अपने राज्यों की विधानसभाओं में डालेंगे। उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अभी भी सांसद हैं लेकिन वो उत्तरप्रदेश विधानसभा में ही वोट डालेंगे। इसी तरह रक्षा मंत्री का पद छोड़कर गोआ के मुख्यमंत्री बने मनोहर पर्रीकर अब भी उत्तरप्रदेश से राज्यसभा सांसद हैं। मगर वो गोआ विधानसभा में अन्य विधायकों के साथ हो मतदान करेंगे। इसके अलावा तृणमूल कांग्रेस ने अपने सभी सांसदों को पश्चिम बंगाल में ही मत डालने को कहा है। मगर टीएमसी के देव अधिकारी और स्वागत बोस संसद भवन में ही मतदान करेंगे। राज्यसभा के 14 और लोकसभा के 41 सांसदों को राज्य विधानसभाओं में वोट डालने की इजाजत दी गई है।

 

नंबर 1 से तय होता है राष्ट्रपति

राष्ट्रपति चुनाव के मतदान में हिस्सा लेने वाले सभी सदस्यों को बैलट पेपर पर अपनी पसंद के उम्मीदवार के नाम के आगे 1 नंबर अंकित करना होगा। चुनाव आयोग के निर्देशों के मुताबिक अन्य कोई निशान जैसे सही या क्रॉस बनाने पर वोट निरस्त हो जाएगा। दरअसल, राष्ट्रपति चुनाव में सदस्यों को अपनी पहली और दूसरी पसंद अंकित करना होती है। जिस भी उम्मीदवार को सर्वाधिक मतदाताओं ने अपनी पहली पसंद बताया हो वही विजयी घोषित कर दिया जाता है।

 

खास पेन से लगेगा निशान

राष्ट्रपति चुनाव में इस बार निर्वाचन आयोग ने पहली बार एक खास पेन भी उपलब्ध कराया है। यह इलेक्शन मार्कर पेन निर्वाचन बूथ पर ही सदस्यों को मिलेगा जिससे वो बैलेट पेपर पर अपने मनपसंद उम्मीदवार के आगे 1 का अंक लिख सकेंगे।

 

उम्मीदवारों का मत नहीं

राष्ट्रपति पद के लिए हो रहे चुनाव का एक रोचक तथ्य ये भी है कि देश के सर्वोच्च संवैधानिक पद की चुनावी रेस में शामिल दोनों ही उम्मीदवार यानी रामनाथ कोविंद और मीरा कुमार अपने लिए वोट नहीं डाल सकेंगे। दोनों ही नेता इस समय ना तो सांसद है और ना ही विधानसभा सदस्य। चुनाव के लिए यूं तो 90 से अधिक लोगों ने पर्चा भर था लेकिन NDA उम्मीदवार रामनाथ कोविंद और पूर्व लोकसभा स्पीकर और विपक्ष की प्रत्याशी मीरा कुमार को ही चुनाव लड़ने के योग्य पाया गया।

 

चुनावी रेस के गणित में फिलहाल रामनाथ कोविंद का पलड़ा भारी नजर आ रहा है जिन्हें एनडीए के घटक दलों समेत 40 राजनीतिक पार्टियों का समर्थन हासिल है। उनके पाले में करीब 62.7 फीसदी वोट हैं। वहीं विपक्षी खेमे में मीरा कुमार के पास में करीब 27 फीसदी वोट ही नजर आ रहे हैं। हालांकि राष्ट्रपति चुनाव में कोई दल अपने विधायकों और सांसदों को अपने उम्मीदवार के पक्ष में वोट करने के लिए बाध्य नहीं कर सकती, इसलिए दलगत बंधनों से बाहर मतदान की संभावना भी बनी रहती है।

 

ये सदस्य नहीं कर सकेंगे मतदान

बिहार के सासाराम से सांसद छेदी पासवान का निर्वाचन पटना उच्च् न्यायालय द्वारा रद्द किए जाने के कारण वह राष्ट्रपति चुनाव में वोट नहीं डाल सकेंगे। रोचक बात है कि छेदी पासवान ने 2014 के लोकसभा चुनाव में सासाराम से ही मीरा कुमार को हराया था जो अब राष्ट्रपति चुनाव में विपक्ष की उम्मीदवार हैं।

रोज वैली चिटफण्ड मामले में गिरफ्तार तृणमूल सांसद तापस पॉल को जेल में होने के कारण मतदान की इजाजत नहीं होगी।

इसके अलावा मध्यप्रदेश सरकार में मंत्री नरोत्तम मिश्रा समेत अन्य राज्यों में भी कई विधायक कानूनी कारणों से वोट नहीं डाल पाएंगे।

संवैधानिक प्रावाधानों के चलते लोकसभा और राज्यसभा के मनोनीत सांसद भी राष्ट्रपति चुनाव में हिस्सा नहीं लेंगे।

 

मतदान प्रक्रिया पूरी होने के बाद सोमवार शाम 6:30 बजे राष्ट्रपति चुनाव के निर्वाचन अधिकारी और लोकसभा के सेक्रेटरी जनरल अनूप मिश्रा प्रेस कांफ्रेस को संबोधित करेंगे।

More from National PoliticsMore posts in National Politics »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.