बड़ा खुलासा: पीएम मोदी को नहीं इसे मार रहे थे राहुल गांधी आंख, जानिए क्या थी उसके पीछे की वजह…

लोकसभा में अविश्वास प्रस्ताव के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपने भाषण के बाद प्रधानमंत्री मोदी से गले मिलने के लिए उनकी सीट पर गए। गले मिलकर जब राहुल गांधी वापस लौटे तो अपनी सीट पर बैठकर उन्होंने आंख मारी जो कि मिनटों में वायरल हो गया। लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने भी राहुल गांधी के इस व्यवहार के लिए उन्हें नसीहत दी। सोशल मीडिया और राजनीतिक समीक्षकों ने भी उनकी इस हरकत के लिए उनकी आलोचना की। लेकिन लोकसभा की कार्रवाई का वीडियो ध्यान से देखने पर लगता है कि राहुल गांधी की मंशा प्रधानमंत्री मोदी को अपमानित करने की नहीं थी।

दरअसल राहुल गांधी प्रधानमंत्री से गले मिलकर वापस अपनी सीट पर लौटे तो उनसे थोड़ी दूरी पर बैठे कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने उन्हें थम्सअप किया था और बधाई दी। ज्योतिरादित्य सिंधिया के थम्सअप करने पर राहुल गांधी उन्हें आंख मारते हुए मुस्कुरा दिए और बॉडी लैंग्वेज एक्सपर्ट का कहना है कि हम उम्र के दोस्तों के बीच में ऐसा होना बहुत स्वाभाविक होता है। उनका कहना है कि ऐसा कर राहुल गांधी प्रधानमंत्री को लेकर कोई टिप्पणी नहीं कर रहे थे। बल्कि उनका आशय था कि उनके लिए ये सबकुछ बहुत आसान था या वो ये कहना चाह रहे थे कि वो अपने मिशन में कामयाब हो गए हैं।

विशेषज्ञों के अनुसार उनके एक्सप्रेशन में शरारत थी, लेकिन किसी को अपमानित करने का कोई इरादा नहीं था। इससे ये भी पता चलता है कि भाषण देने और प्रधानमंत्री को गले लगाने के दौरान राहुल गांधी पर कोई दबाव नहीं था। वो कूल थे और ऐसे मौके पर वो तनाव में भी आ सकते थे, खासतौर से तब उनके कहने पर भी प्रधानमंत्री नहीं उठे। ऐसे में राहुल गांधी ने तुरंत निर्णय लिया और वो उनसे लिपट गए। उनका खुद पर पूरी तरह से नियंत्रण था।

प्रधानमंत्री के खड़े न होने के बारे में विशेषज्ञों का कहना था कि ऐसा भी बहुत स्वाभाविक था। राहुल गांधी का व्यवहार इतना अप्रत्याशित था कि हर कोई हैरान रह गया। प्रधानमंत्री मोदी ने सोचा कि वो शायद हाथ मिलाने के लिए आ रहे हैं। लेकिन जब राहुल ने उनसे खड़े होने की बात कही तो वो समझ ही नहीं सके कि ये क्या हो रहा है। हालांकि इसके बाद प्रधानमंत्री मोदी ने खुद को संभाला है और राहुल गांधी को दोबारा बुलाकर उनसे कुछ बात की है और उनकी पीठ थपथपाई है।

कुल मिलाकर एक अच्छी राजनीति के लिहाज से देखा जाए तो ये पहल अच्छी है। हालांकि सदन की अपनी गरिमा होती है लेकिन अपने तौर तरीके होते हैं, जिनका ध्यान रखना चाहिए। यही वजह है कि लोकसभा अध्यक्ष ने भी राहुल गांधी के व्यवहार को लेकर उन्हें नसीहत दी थी। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री पद की अपनी एक गरिमा होती है, और सदन में इस तरह उनसे गले मिलना ठीक नहीं है।

  • Show Comments (0)

Your email address will not be published. Required fields are marked *

comment *

  • name *

  • email *

  • website *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

You May Also Like

मोदी की सबसे वफादार सुषमा स्वराज ने रच दिया उनके खिलाफ चक्रव्यूह

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ लगातार विपक्ष कई अलग-अलग साजिशों का प्लान ...

PM Modi Tea Stall Will Get A Renovation - Wikileaks4india News Report

जल्द बनेगा “PM Modi TEA STALL”, वडनगर में बनेगा 100 करोड़ का स्टॉल

गुजरात के वडनगर में चाय की जिस दुकान पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपना ...

Ram Mandir: Swamy New Warning- Wikileaks4India Report

राम मंदिर: स्वामी ने दी धमकी, कहा प्रस्ताव नहीं माना तो बनाएंगे कानून

भारतीय जनता पार्टी (BJP) के नेता सुब्रमण्यम स्वामी (Subramanian Swamy) ने राम मंदिर(Ram Mandir) ...

rahul-gandhi-missing-poster-found-in-amethi-

राहुल गांधी हुए लापता, सड़कों में लगे पोस्टर

कल से अमेठी मे एक विषय को लेकर काफी चर्चा हो रही है। कांग्रेस उपाध्यक्ष ...

Is demonetization affected assembly election

जानिए: क्या नोटबंदी ने आने वाले विधानसभा चुनावों को महंगाई की ओर धकेला?

नोटबंदी का असर अब आने वाले पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों में भी दिखेगा। ...