लालू यादव के दोनों बेटों में छिड़ी सियासी जंग

चुनाव के दौरान सियासत काफी गर्म रहती है इस बात से तो सभी लोग वाकिफ है। राजनीतिक गर्मी इस समय भी अपने चरम पर है और इस बार बिहार की राजनीति भी गर्म दिखाई दे रही है। बिहार में पटने से पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी की मौजूदगी में उनके दोनों बेटों तेजप्रताप यादव और तेजस्वी यादव की कुछ ऐसी तस्वीरें सामने आई है जिनमें वह सब कुछ ठीक-ठाक न होने के बाद भी दिखावा करते दिख रहे है ऐसा लग रहा है कि वह सब कुछ ठीक दिखाने की कोशिश कर रहे है।

आपको बता दें कि लालू यादव के 71वें जन्मदिन के शुभ अवसर पर पटना में केक काटा गया और एक-दूसरे को केक खिलाया गया। पहले तस्वीर सामने आई जिसमें मां राबड़ी देवी दोनों बेटों को अपने हाथों से केक खिला रही है और मां के बाद फिर, दोनों भाइयों ने भी एक-दूसरे को केक खिलाया। हमेशा की तरह इस बार भी दोनों भाइयों के बीच मनमुटाव और मतभेद का ठीकरा मीडिया के सिर फोड़ दिया गया और परिवार द्वारा ये दावा किया गया कि परिवार के भीतर सबकुछ ठीक चल रहा है।

लेकिन एक सवाल अब भी बना हुआ है कि आखिर इस तरह की सफाई देने की जरूरत ही क्यों पड़ रही है? अगर लालू परिवार के बीच सब कुछ ठीक है तो फिर रह-रह कर बड़े बेटे तेजप्रताप को कृष्ण और अर्जुन के अवतार का जिक्र क्यों करना पड़ता है?

लालू परिवार के भीतर का समीकरण

आपको बता दें कि लालू परिवार के मध्य भी सत्ता को लेकर संघर्ष चलता आ रहा है। वो बाद अलग है कि इस समय तात्कालिक तौर पर संघर्ष विराम देखने को मिल रहा है लेकिन, आगे आने वाले दिनों में खींचतान और अधिक देखने को मिल सकता है। वरिष्ठ पत्रकार कन्हैया भेल्लारी के मुताबिक बताया जा रहा है कि ‘इस समय लालू परिवार के भीतर सत्ता की तीन धुरी है। पहला विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष और छोटे बेटे तेजस्वी यादव, दूसरा लालू के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव और तीसरा राज्यसभा सांसद और लालू यादव की संतानों में सबसे बड़ी बेटी मीसा भारती।’

लालू ने तेजस्वी को दी है तरजीह

इसके साथ ही ऐसी खबरें भी है कि लालू यादव पार्टी की कमान अपने छोटे बेटे तेजस्वी यादव को ही सौंपना चाहते है और इस बात का अंदाजा तब ही लग गया था, जब 2015 में महागठबंधन की सरकार बनने के बाद नीतीश कुमार की सरकार में डिप्टी सीएम के तौर पर लालू ने तेजस्वी यादव को ही आगे किया था।

तेजप्रताप को क्यों नहीं चाहते लालू?

लालू यादव ने अपने छोटे बेटे को राजनीतिक विरासत देने का फैसला किया है, लेकिन ये भी बताया जाता है कि लालू ने पहले बड़े बेटे को राजनीति में नहीं लाने का मन बनाया था। 2015 चुनाव होने से पहले तेजप्रताप यादव का मन देखते हुए लालू ने उनके लिए व्यापार की व्यवस्था कराई गई थी।

  • Show Comments (0)

Your email address will not be published. Required fields are marked *

comment *

  • name *

  • email *

  • website *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

You May Also Like

माया-अखिलेश के साथ आने पर मुलायम सिंह ने दिया हैरान करने वाला बयान..

कुछ समय पहले जिस तरह बीएसपी और एसपी ने एक होकर बीजेपी के गढ़ ...

कभी जिसके नाम से डरती थी पुलिस, अब पति-पत्नी दोनों हैं सांसद

आज देश का सबसे बड़ा मामला यही बना हुआ है कि दबंगों से देश ...

AKHILESH WILL CAMPAIGN FOR GAYATRI PRAJAPATI

गैंगरेप के आरोपी के लिए चुनाव आज प्रचार करेंगे अखिलेश यादव

उत्तर प्रदेश सरकार के परिवहन मंत्री गायत्री प्रजापति अमेठी विधानसभा सीट से चुनाव लड़ ...

The fall of the Maha-Alliance.. wikileaks4india news report

क्या खतरे में है बिहार का महागठबंधन!

बिहार में जेडीयू-आरजेडी-कांग्रेस का महा-गठबंधन टूटने की कगार पर पहुंच चुका है। राष्ट्रपति चुनाव ...

PM मोदी ने राहुल पर ली जमकर चुटकी- बोले- कुछ लोग भाषण देना सीख रहे हैं

प्रधानमंत्री बनने के बाद 9वीं बार वाराणसी पहुंचे पीएम मोदी का बीजेपी कार्यकर्ताओं ने ...