Press "Enter" to skip to content

कांग्रेस के सहयोगी दल ने एक बार फिर उसे दिया झटका, बीजेपी ने मनाई खुशियां…

Spread the love

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कर्नाटक में बीजेपी को सत्ता से दूर रखने के लिए जेडीएस के कुमारस्वामी को मुख्यमंत्री बनाने में भले ही अहम भूमिका निभाई हो लेकिन साल 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले विपक्षी एकता की कोशिशों के बीच में जेडीएस की ओर से एक बड़ा बयान दिया गया है जिस वजह से कांग्रेस और राहुल गांधी को झटका लगने वाला है।

कर्नाटक की सत्ताधारी जेडीएस की तरफ से कहा गया है कि लोकसभा चुनाव के बाद ही प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार के मुद्दे पर फैसला करना चाहिए। जेडीएस का बयान ऐसे वक्त में आया है जब कर्नाटक में हुए विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने खुद के पीएम बनने की इच्छा को रैली में जाहिर किया था।

राहुल गांधी प्रधानमंत्री बनने के लिए तैयार

राहुल गांधी ने कर्नाटक में चुनाव प्रचार के वक्त एक सवाल के जवाब में कहा था कि अगर उनकी पार्टी चुनाव जीतती है तो वो प्रधानमंत्री बनने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं। जेडीएस के महासचिव दानिश अली ने कहा कि अगले साल लोकसभा चुनाव के बाद ही विपक्ष की तरफ से पीएम पद के उम्मीदवार के मुद्दे पर फैसला किया जाना चाहिए। उन्होंने तीन मौकों का जिक्र किया कि जब चुनावों के बाद पीएम चुने गए है।

दानिश अली का कहना था कि वीपी सिंह चुनावों के बाद ही प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार बनकर उभरे थे। साल 1996 में लोकसभा चुनावों के बाद एकीकृत मोर्चा का गठन हुआ था और तभी एच डी देवगौड़ा प्रधानमंत्री बने थे और इसी तरह से साल 2004 चुनावों के नतीजों के बाद यूपीए की तरफ से मनमोहन सिंह को प्रधानमंत्री चुना गया था। अभी के विपक्ष को चुनाव के बाद ही फैसला करना होगा कि किसे अगला प्रधानमंत्री बनना चाहिए।

विपक्षी नेताओं ने दिया था एकजुटता का संदेश

23 मई को कर्नाटक के नए मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी के शपथ ग्रहण समारोह में विपक्षी नेताओं ने एकजुटता का संदेश दिया था। साल 2014 के बाद ये पहली बार हुआ था, जब इतने सारे दल मिलकर बीजेपी के खिलाफ एकजुट हुए थे। कर्नाटक विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने 104 सीटों, कांग्रेस ने 78 और जेडीएस ने 37 सीटों पर जीत दर्ज की है।

कुमारस्वामी के शपथ ग्रहण समारोह में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी के अलावा बसपा सुप्रीमो मायावती, समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव, आरजेडी के नेता तेजस्वी यादव, आम आदमी पार्टी के अरविंद केजरीवाल, लेफ्त के बड़े नेता शामिल हुए थे। इसके अलावा तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ममता बनर्जी, एनसीपी प्रमुख शरद पवार, सीपीएम के महासचिव नेता सीताराम येचुरी, सीपीआई के डी राजा, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू समेत कई बड़े नेता भी इस शपथ ग्रहण समारोह में शामिल हुए थे।

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.