Press "Enter" to skip to content

योगी के दर पर पहुंचे मुलायम सिंह यादव, यूपी की सियासत में बड़ा भूचाल…

Spread the love

समाजवादी पार्टी के दिग्गज नेता और आजमगढ़ से सांसद मुलायम सिंह यादव ने अपना सरकारी बंगला बचाने के लिए उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की है। सुप्रीम कोर्ट ने यूपी के पूर्व मुख्यमंत्रियों से उनका सरकारी बंगला खाली करने का आदेश जारी किया था। जिस कारण ममुलायम सिंह यादव योगी आदित्यनाथ सेे मिलने के लिए पहुंचे हैं। इन दोनों की मुलाकात करीब आधे घंटे तक चली है।

सीएम योगी आदित्यनाथ से की मुलाकात

अपने और बेटे अखिलेश यादव के सरकारी बंगले को बचाने के लिए मुलायम सिंह यादव ने योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की है। मुलाकात के दौरान उन्होंने जोर दिया कि उनके और अखिलेश यादव के सरकारी बंगले नेता प्रतिपक्ष राम गोविंद चौधरी और नेता विधान परिषद अहमद हसन को दे दिए जाएं। इस बातचीत में ये बात भी सामने आई कि कल्याण सिंह के पास जो बंगला है, वो मुलायम सिंह के पोते और राज्यमंत्री सदीप सिंह के नाम कर दिया जाए। हालांकि इस मुलाकात से क्या हल निकलकर आया है, इसकी अभी तक कोई जानकारी नहीं आई है।

सुप्रीम कोर्ट ने दिया था बंगला खाली करने का आदेश

आपको बता दें कि कुछ समय पहले सुप्रीम कोर्ट ने यूपी के पूर्व मुख्यमंत्रियों से सरकारी बंगलों को खाली करने का आदेश दिया था। ये फैसला केवल उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्रियों के लिए ही था जिनमें मुलायम सिंह यादव, अखिलेश यादव, मायावती, राजनाथ सिंह, एनडी तिवारी और कल्याण सिंह का नाम शामिल है। साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया था कि इन सभी से सरकारी बंगले जल्द से जल्द खाली कराए जाएं। इसके लिए राज्य संपत्ति विभाग ने तैयारी भी शुरू कर दी है।

सरकारी पैसों पर होता है इन घरों का रख-रखाव

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मुहर लगते ही ये चिट्ठी सभी पूर्व मुख्यमंत्रियों के पास चली जाएगी और पूर्व मुख्यमंत्रियों को दिए गए सरकारी बंगले काफी बड़े होते हैं और इनका रख-रखाव भी सरकारी पैसों से ही किया जाता है। इन बंगलों के लिए उन्हें मामूली सा किराया देना होता है, वहीं इनके रख-रखाव में लाखों रुपये खर्च हो जाते हैं। मुलायम सिंह को लखनऊ में विक्रिमादित्य मार्ग पर साल 1992 में बंगला दिया गया था, जिसपर अभी तक उनका कब्जा है।

More from State PoliticsMore posts in State Politics »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.