इंसानों की मौत पर बेल और जानवरों की मौत पर जेल

बॉलीवुड के दबंग खान यानी की सलमान खान को आज काले हिरण के शिकार के मामले में 5 साल की जेल हो गई है। तो वहीं बाकी के 5 आरोपियों को कोर्ट ने बरी कर दिया है। आपको बता दें कि सलमान को 5 साल की जेल हुई है और 10 हजार रुपये का जुर्माना बी लगाया गया है। सलमान खान को जोधपुर सेंट्रल जेल में रखा जाएगा और आज की रात तो उन्हें वहीं रहना होगा, जमानत के लिए कल सुबह 10: 30 बजे सुनवाई होगी।

आपको बता दें कि ये मामला साल 1998 का है जब एक बहुत चर्चित फिल्म हम साथ-साथ हैं की शूटिंग के दौरान सलमान ने सैफ, तब्बू, सोनाली बेंद्रे, नीलम के साथ जंगल में जाकर एक काले हिरण का शिकार किया था। गौरतलब है कि 20 साल के बाद ही सही लेकिन इस केस में कोर्ट ने सलमान को जेल भेज दिया है।

कोर्ट के इस फैसले से एक बहुत ही गंभीर सवाल पैदा हो गया है जो पूछता है कि काला हिरण मामले में तो सलमान को 5 साल की जेल की सजा सुना दी गई है लेकिन सलमान खान के ऊपर जो हिट एंड रन केस चल रहा था उसमें सलमान पूरी तरह से बरी हो गए थे। तो क्या इंसान की कीमत एक हिरण से भी सस्ती है। क्योकि इंसानों को कुचलने के मामले में तो सलमान खान को बरी कर दिया जाता है लेकिन काले हिरण की मौत पर सलमान को जेल में धकेल दिया जाता है।

एक फुटपाथ पर सो रहे लोगों पर गाड़ी चढ़ाने वाले यही सलमान खान जिन्हें कब से जेल जाने की उम्मीद थी वो गए भी तो जानवर की मौत पर। इससे न सिर्फ हमारे कानून की कमी नजर आती है बल्कि साथ ही ये भी साफ होता है कि इंसान की जान की कीमत हमारे कानून में कुछ भी नहीं और खासतौर पर अगर वो इंसान गरीब हो और उसकी जान लेने वाला एक अमीर सितारा हो।

सलमान खान को जेल हुई तो हर तरफ हाहा कार मच गया मीडिया से लेकर सलमान के चाहने वाले हो या फिर बॉलीवुड सबने अलग अलग तरह से अपनी प्रतिक्रिया दे दी है लेकिन जब सरहद में जवान मरता है या फिर कोई गरीब इंसान किसी बम विस्फोट में मरता है या अभी इराक में 39 भारतीय मारे जाते हैं, इन पर सभी मौन हो जाते हैं क्योंकि धारना तो यही बन गई है कि आम जन की जान की कोई कीमत नहीं है। जब बात किसी समुदाय से जुड़ गई तो यहां पर मुकदमे पर मुकदमा चलता है लेकिन सड़क पर तेज रफ्तार से आ रही गाड़ी जब फुटपाथ पर चढ़ जाती है और उसमें लोग मारे जाते हैं तो सभी मौन रहते हैं और कोर्ट भी आरोपी को बरी कर देता है। क्योंकि शायद वो गाड़ी किसी बढ़े आदमी की है और जिसके आगे एक गरीब की जान की कोई कीमत नहीं होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.