Press "Enter" to skip to content

सचिन तेंडुलकर को लगता है क्रिकेट के इस नियम से डर, कहा मचने वाली है तबाही…

Spread the love

सचिन तेंडुलकर क्रिकेट जगत का सबसे बड़ा नाम है और इस समय सचिन तेंडुलकर को क्रिकेट का भगवान कहा जाता है। लेकिन मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंडुलकर ने वनडे में दो नई गेंद इस्तेमाल करने के नए मामले पर बातचीत करते हुए अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) के नियम को तबाही का साधन बताया है। सचिन ने अपने ये बयान हाल ही में ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच वनडे में बने सर्वोच्च स्कोर के बाद दिया है।

सचिन ने अपने ट्विटर अकाउंट पर लिखा कि, ‘वनडे में दो नई गेंदों का इस्तेमाल करना एक तबाही के साधन की तरह है। गेंद को इतना समय ही नहीं मिल पाता है कि रिवर्स स्विंग मिल सके। हमने डैथ ओवरों में काफी समय से रिवर्स स्विंग नहीं देखी है।’

क्या है दो बॉल का नियम?

अब अगर हम दो बॉल नियम के बारे में बातचीत करें तो आईसीसी ने अक्टूबर 2011 में अपने नियमों में कुछ अहम बदलाव किए थे और उसी दौरान वनडे क्रिकेट में इस दो बॉल नियम को लागू किया था। इस नियम के बारे में अधिक बात करे तो इसके तहत दोनों छोरों से दो अलग-अलग नई बॉल का इस्तेमाल किया जाता है, जिसकी वजह से एक पारी में दोनों गेंद से 25-25 ओवर फेंके जाते हैं। पहले एक ही गेंद से 50 ओवर पूरे किए जाते थे, तो बॉल को रिवर्स स्विंग मिलती थी और स्पिनर्स के लिए भी बॉल सपॉर्टिंग रोल निभाती थी। लेकिन 2 बॉल के नियम के आने के बाद से ही अब वनडे क्रिकेट में रिवर्स स्विंग और स्पिन की कला गायब होती जा रही है।

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.