तो सालाना इतने पैसे लेंगे हेड कोच रवि शास्त्री!

by Taranjeet Sikka Posted on 94 views 0 comments
Salary of Ravi Shastri

टीम इंडिया के नए हेड कोच रवि शास्त्री के सालाना वेतन पर अब चर्चा होने लगी है। सूत्रों की अगर मानें तो शास्त्री बतौर कोच 7 करोड़ से 7.5 करोड़ रुपये सालाना पैसे कमाएंगे। बीसीसीआई के एक शीर्ष अधिकारी ने बताया कि बीसीसीआई शास्त्री को 7 करोड़ रुपये का प्रस्ताव देगा। शास्त्री से पूर्व टीम इंडिया के कोच रहे अनिल कुंबले ने मई में दी अपनी प्रेजेंटेशन के दौरान अपने वेतन के रूप में इतनी ही रकम के लिए कहा था।

इससे पहले शास्त्री जब टीम इंडिया के डायरेक्टर थे, तब भी उन्हें 7 से 7.5 करोड़ रुपये का ही भुगतान किया जाता था। इसमें शास्त्री की वह मुआवजा रकम भी शामिल थी, जो उन्हें उनके मीडिया कमिटमेंट्स से हटने के बदले मिलती थी। सूत्र ने यह भी बताया कि शास्त्री के साथ काम करने वाले कोर सपॉर्ट स्टाफ यानी बैटिंग, बॉलिंग और फील्डिंग कोच को 2 करोड़ रुपये सालाना से ज्यादा नहीं मिलेंगे।

बोर्ड जल्द से जल्द इस कॉन्ट्रैक्ट को फाइनल रूप देने में जुटा है। अगर बैटिंग कोच के रूप में संजय बांगड़ टीम के साथ बने रहते हैं, तो यह उनकी आय में अच्छा हाइक होगा। वहीं भरत अरुण भी करीब 2 करोड़ के पैकेज पर बोलिंग कोच के रूप में टीम इंडिया से जुड़ेंगे। वह बोलिंग कोच के रूप में शास्त्री की पहली पसंद हैं।

संजय बांगड़ पहले ही किंग्स XI पंजाब से कोच का पद छोड़ चुके हैं। अगर भरत अरुण टीम से जुड़ते हैं, तो उन्हें भी आईपीएल की टीम रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर और हैदराबाद रणजी टीम से इस्तीफा देना होगा। वहीं राहुल द्रविड़ की अगर बात करें तो वह भारत A और अंडर 19 के कोच पहले से ही नियुक्त हैं और इस जिम्मेदारी के लिए उन्हें पहले साल का 4.5 करोड़ और दूसरे साल 5 करोड़ का पैकेज मिला है।

अगर विदेशी दौरों के लिए द्रविड़ टीम इंडिया के साथ बतौर सहायक कोच जुड़ते हैं, तो यह उनकी एक्स्ट्रा इनकम होगी। वहीं जहीर खान की सैलरी पर अभी तक बीसीसीआई ने कोई निर्णय नहीं लिया है। अगर वह बोलिंग कोच बनते हैं, तो अभी यह स्पष्ट नहीं है कि वह टीम को कितने दिन दे पाएंगे। उनकी सैलरी इसी पर आधारित होगी कि वह टीम को कितने दिन अपनी सेवाएं दे पाएंगे। सूत्र ने बताया कि इससे पहले बोर्ड पिछले साल जहीर की इस मांग को ठुकरा चुका है। जहीर ने पिछले साल 100 दिन के बदले 4 करोड़ रुपये की मांग की थी।

Comments

comments