मुस्लिम पक्षकार का बयान, अगर पीएम मोदी कर लें ये एक काम तो 1 घंटे में सुलझ जाएगा राम मंदिर मामला

Election, News

लोकसभा चुनाव से पहले राम मंदिर निर्माण को लेकर सियासत तेज हो गई है। साधु-संतों समेत कई हिंदूवादी संगठन राम मंदिर निर्माण को लेकर केंद्र की मोदी सरकार और राज्य की योगी आदित्यनाथ सरकार पर लगातार दबाव बना रहे हैं। मामले को लेकर मुख्य मुस्लिम पक्षकार हाजी महबूब का बड़ा बयान सामने आया है। उन्होंने कहा कि अगर प्रधानमंत्री मोदी के स्तर पर मध्यस्थता की जाए, तो राम मंदिर विवाद का समाधान कोर्ट के बाहर एक घंटे में निकल जाएगा। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में मामले की सुनवाई लगातार टलने पर भी निराशा जाहिर की। उन्होंने ये दावा भी किया कि उनके पास इस विवाद का समाधान है। अयोध्या में राम मंदिर बनाने में भी कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन बात तभी बनेगी, जब इसके लिए प्रधानमंत्री के स्तर पर पहल होगी।

बता दें कि हाजी महबूब ने आगे कहा कि सुप्रीम कोर्ट में रोज-रोज तारीख बढ़ने से निराशा बढ़ रही है। कोर्ट को जल्द ही इस बारे में गंभीरता से सोचना चाहिए। ऐसे में मामले को जल्द ही निपटाना चाहिए। अगर मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्तर पर मध्यस्थता की जाती है और साधु-संतों और मामले के पक्षकारों को आमने-सामने बैठाया जाता है, विवाद का हल एक घंटे में ही निकल जाएगा।

हाजी महबूब ने आरोप लगाया कि विश्व हिंदू परिषद और कई मुस्लिम संगठन नहीं चाहते हैं कि इस विवाद का हल निकले। वहां पर राम मंदिर बने, इसमें भी कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन इसके लिए प्रधानमंत्री के स्तर पर पहल होनी चाहिए। हिंदुस्तान में हजारों मंदिर हैं, एक मंदिर और हो जाएगा, तो इसमें कोई बुराई नहीं हैं। इससे पहले भी हाजी महबूब ने इस मामले को पीएम मोदी के स्तर पर सुलझाने की बात कह चुके हैं। पिछले साल ही उन्होंने कहा था कि देश के लिए मुसलमान कुर्बानी देंगे।

आपको बता दें कि हाल ही में इसको लेकर अयोध्या और प्रयागराज में धर्म संसद का आयोजन किया गया था। इसमें साधु-संतों और हिंदूवादी संगठनों ने राम मंदिर का निर्माण जल्द करने की मांग की थी। इसके अलावा सत्तारूढ़ बीजेपी का मातृ संगठन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ भी राम मंदिर निर्माण के लिए सरकार पर दबाव डाल रहा है।

Leave a Reply