सीबीआई vs ममता: SC ने कोलकाता कमिश्नर की गिरफ्तारी पर लगाई रोक, कही ये बड़ी बातें

News

शारदा चिटफंड घोटाला मामले में सुप्रीम कोर्ट ने कोलकाता पुलिस आयुक्त राजीव कुमार पर मामले से जुड़े इलेक्ट्रॉनिक सबूत नष्ट करने का आरोप लगाने वाली सीबीआई की याचिका पर सुनवाई हुई। मामले की सुनवाई के दौरान अटॉर्नी जनरल ने कोलकाता पुलिस के छेड़छाड़ किए हुए कॉल डेटा रिकॉर्ड मुहैया कराए और शारदा चिटफंड घोटाला मामले में सबूत नष्ट करने का आरोप भी लगाया। उन्होंने कहा कि चिटफंड घोटाले की जांच के लिए पश्चिम बंगाल सरकार द्वारा गठित एसआईटी का नेतृत्व कोलकाता के पुलिस आयुक्त राजीव कुमार कर रहे थे।

कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार की ओर से पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता एएम सिंघवी ने कहा कि सीबीआई ने अपना नंबर बढ़ाने के लिए यह कदम उठाया था। मामले में सुप्रीम कोर्ट ने निर्देश दिया कि कोलकाता पुलिस आयुक्त राजीव कुमार को जांच में सहयोग करें। मामले की अगली सुनावई 20 फरवरी को होगी। कोर्ट के अवमानना मामले में पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव, पुलिस महानिदेशक और कोलकाता पुलिस आयुक्त को नोटिस जारी किया है।

बता दें कि कोर्ट ने कहा, कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार से जांच के लिए पेश होने को कह सकते हैं और सीबीआई की अवमानना याचिका पर नोटिस जारी किया जाएगा। कोर्ट ने कोलकाता पुलिस आयुक्त राजीव कुमार को सीबीआई के समक्ष स्वयं को उपलब्ध कराने और शारदा घोटाला जांच में पूरा सहयोग करने का आदेश दिया है। राजीव कुमार की गिरफ्तारी समेत कोई दंडात्मक कदम नहीं उठाया जाएगा।

Leave a Reply